Essay of dowry system in hindi. Free Essays on Essays On Dowry System In Hindi through 2022-10-06

Essay of dowry system in hindi Rating: 6,6/10 1834 reviews

Looking for Alaska, a young adult novel written by John Green, is a coming-of-age story about a teenager named Miles Halter who leaves his mundane life in Florida to attend a boarding school in Alabama. At the school, Miles becomes friends with a group of misfits and falls in love with a girl named Alaska Young. The novel explores themes of love, loss, identity, and the search for meaning in life.

One of the main themes of Looking for Alaska is love. Miles falls in love with Alaska, and his love for her drives much of the plot of the novel. However, their relationship is complex and tumultuous, as Alaska is dealing with her own emotional issues and struggles. The novel also explores the concept of unconditional love, as Miles's friends demonstrate their love and support for him even when he is struggling or making mistakes.

Another major theme in the novel is loss. Miles's life is deeply affected by the loss of his mother and the loss of his friend Alaska. The novel explores how loss can change a person and the ways in which people cope with grief. Miles grapples with feelings of guilt and grief as he tries to come to terms with the loss of Alaska, and the novel ultimately serves as a meditation on the nature of loss and its place in the human experience.

Identity is another important theme in Looking for Alaska. Miles embarks on a journey of self-discovery as he leaves his hometown and begins attending boarding school. He struggles to find his place in the world and to figure out who he is and what he wants from life. The novel also touches on the theme of identity in relation to religion, as Miles grapples with his own beliefs and the role that religion plays in his life.

Finally, the novel explores the theme of the search for meaning in life. Miles is driven by a desire to find the "Great Perhaps," a phrase coined by his hero, François Rabelais, which refers to the search for a greater purpose or understanding in life. Miles's quest for the Great Perhaps is closely tied to his search for Alaska, and the novel ultimately suggests that the search for meaning is a lifelong journey that can take many different forms.

In terms of symbols, one of the key symbols in the novel is the labyrinth. The labyrinth serves as a metaphor for the complexities and mysteries of life, and Miles and his friends often discuss the concept of the labyrinth as they try to make sense of their own experiences. Another important symbol in the novel is the metaphor of the "looking glass self," which refers to the idea that one's self is shaped by the perceptions of others. This concept is explored through Miles's relationships with his friends and with Alaska, and it serves as a reminder of the power of our interactions with others to shape our sense of identity.

In conclusion, Looking for Alaska is a thought-provoking and emotionally powerful novel that explores a range of themes, including love, loss, identity, and the search for meaning in life. Its characters and symbols serve to enrich and deepen the novel's themes, making it a powerful and enduring work of literature.

दहेज प्रथा पर निबंध Essay on Dowry System in Hindi

essay of dowry system in hindi

We are now trying. This is creating a mess and negative environment in society. Suddenly I noticed a guy touching me. कारण और उपाय: दहेज प्रथा के पीछे शायद सबसे बड़ा कारण यही रहा होगा कि कन्या या वर पक्ष वाले दूसरे पक्ष को धन-दौलत देकर खुश करना चाहते हों, जिससे वर-कन्या का विवाहित जीवन सुखी हो । दूसरा कारण यह भी रहा होगा कि एक पक्ष दूसरे पक्ष को धन-दौलत देकर यह सिद्ध करना चाहता हो कि वह दूसरे पक्ष से किसी भी प्रकार से पीछे नहीं है । कारण जो भी हो किन्तु पौराणिक काल से चली आ रही इस प्रथा का रूप आज बदल गया है । लोग इसे वर-कन्या की खरीद-बिक्री का साधन मानने लगे हैं । दहेज न दे सकने के कारण अनेक कन्याएँ या तो कुँवारी Unmarried रह जाती हैं या आत्महत्या Suicide करती हैं अथवा किसी प्रकार विवाह हो जाने पर भी उन्हें ससुराल में कष्ट उठाना पड़ता है । दहेज प्रथा के बुरे प्रभाव से लड़कियों को बचाने के लिए सरकारी कानून भी बने हैं लेकिन उनका कोई असर नहीं पड़ा है । लोगों के लोभ-लालच के कारण यह बुरी प्रथा और बढ़ती जा रही है । अत: इसके लिए जरूरी है कि धर्म-अधर्म में लोगों का विश्वास फिर से पैदा किया जाय और समाज में दहेज को सबसे बड़ा पाप माना जाय । 4. People ought to have equivalent homegrown tasks and obligations.

Next

दहेज प्रथा

essay of dowry system in hindi

Education System In Pakistan Banking System In India Dowry System. Poor parents do not have any other option. . उत्तर — दहेज प्रथा को रोकने के लिए हम अपने अपनी बेटियों को शिक्षित करें, उन्हें अपना करियर बनाने के लिए प्रोत्साहित करें, दहेज देने या लेने की प्रथा को प्रोत्साहित न करें, उन्हें स्वतंत्र और जिम्मेदार बनना सिखाएं।. Just schooling will permit her to be monetarily secure and an important relative, gaining her appreciation and reasonable family standing. . Constantly the media brings up issues relating to it, for example, just.

Next

दहेज प्रथा पर निबंध

essay of dowry system in hindi

. Ladies were not allowed to buy any land, land, or resources. . TheDowry System is a social no that should be nullified. And they are not aware that they are misusing it, because they are not educated about the traditional dowry system. When Dowry System in India Started? इस अभिशाप को मिटाने के लिए सर्वप्रथम युवक और युवतियों को कटिबद्ध होना चाहिए। माता-पिता को भी सोचना चाहिए कि विवाह दो हृदयों का मिलन है, कोई व्यापार नहीं है। सरकार को चाहिये कि कानूनों को कठोरता से लागू करे और उल्लंघन करने वालों के साथ किसी भी प्रकार की रियायत न की जाए। समाज के प्रतिष्टित व्यक्तियों को भी चाहिए कि वे अपने लड़कों और लड़कियों के विवाह बिना किसी दहेज और बिना किसी धूमधाम के बड़ी सादगी के साथ करके अन्य लोगों के सामने आदर्श प्रस्तुत करें। इसके अतिरिक्त धार्मिक, सामाजिक और राजनीतिक सभी मंचों से धन के लोभ का विरोध होना चाहिए, क्योंकि यही दहेज का मुख्य कारण है। यदि दहेज का यह अभिशाप न मिटा तो न जाने कितने अनमोल विवाह कितने हृदयों का खून करेंगे और कितनी नवयुवतियों को भरी जवानी में मृत्यु की भेंट चढ़ा दिया जाएगा अथवा स्वयं आत्म-हत्या करने पर विवश होंगी। इस अभिशाप को मिटा कर ही समाज का माथा उज्जवल तथा गौरव से ऊंचा रखा जा सकेगा। More Essay in Hindi Thank you for reading दहेज प्रथा पर निबंध — essay on dowry system in Hindi. जनसंख्या वृद्धि — जनसंख्या वृद्धि भी दहेज प्रथा का एक दुष्परिणाम है क्योंकि जहां पर अब लड़कियों के कोख में मारने पर सख्त कार्रवाई होने लगी है वहां पर लोग अब लड़कियों को भी तो नहीं मारते है लेकिन लड़के की चाह में वे एक के बाद एक बच्चे पैदा करते रहते है जिसके कारण जनसंख्या वृद्धि होती है। 5.

Next

10 Lines on Dowry system in Hindi

essay of dowry system in hindi

Since they know subsequent to growing up and teaching her, they actually need to provide settlement to get her hitched. . . States ought to assess orientation disaggregated information across the existence cycle — birth, youth, essential training, nourishment, work, admittance to medical care, etc — to neutralize orientation incongruities. Under the Dowry Prohibition Act, taking or giving Conclusion Dowry system is good unless and until it is considered as a gift given to the bride by her parents. Ram Manohar Lohiya National Law University, Lucknow B. Why the Dowry System Should be Stopped? इस प्रथा की समाप्ति के लिए समाज सुधारकों की महत्त्वपूर्ण भूमिका है। 5.

Next

दहेज प्रथा पर निबंध हिंदी में

essay of dowry system in hindi

इन दिनों में कई जोड़े स्वतंत्र रूप से रहना पसंद करते हैं और यह कहा जाता है कि दहेज जिसमें ज्यादातर नकद, फर्नीचर, कार और ऐसी अन्य संपत्ति शामिल हैं, उनके लिए वित्तीय सहायता के रूप में कार्य करता है और उन्हें एक अच्छे व्यवस्था पर अपना नया जीवन शुरू करने में मदद करता है। जैसा कि दूल्हा और दुल्हन दोनों ने अपने करियर की शुरुआत की है और आर्थिक रूप से वे इतने स्वस्थ नहीं हैं कि वे एक साथ इतना बड़ा खर्च वहन नहीं कर सकते। लेकिन क्या यह एक वैध कारण है? Allow all of us to make attempts to end this grievous social practice and protect our girls and their splendid prospects. Our ancestors started this system for valid reasons but now it is leading to issues and problems in society. This website includes study notes, research papers, essays, articles and other allied information submitted by visitors like YOU. उपसंहार: अन्य बुराइयों की तरह दहेज लेना और देना भी बहुत बड़ी बुराई है । इससे छुटकारा पाये बिना हम पारिवारिक कलह और सामाजिक पिछड़ेपन Social Backwardness से छुटकारा नहीं पा सकते । Welcome to EssaysinHindi. दहेज प्रथा की शुरुआत कब हुई यह बता पाना सटीक रूप से तो बहुत मुश्किल है परंतु यह बता सकते हैं कि यह प्राचीन काल से चला आ रहा है। हिंदू जाति के महान पौराणिक कथाओं या ग्रंथों जैसे विवाह को एक पवित्र एवं धार्मिक बंधन माना जाता था जिसमें दो परिवारों का मिलन होता था। उस समय दहेज को लड़की के शुरूआती समय मे तो जेवर, कपड़े, फर्नीचर, फ्रिज, गाड़ी और दहेज प्रथा के दुष्परिणाम Disadvantages of Dowry System in Hindi आज 21 वीं सदी में दहेज प्रथा एक बहुत ही क्रूर रूप ले चुका है। एसा भी होता है, अगर विवाह के समय दहेज में कमी हुई तो कुछ लोग तो शादी किए बिना ही बारात वापस ले जाते हैं। अगर गलती से शादी हो भी जाती है तो लड़की का जीवन नरक सामान बीतता है या फिर लड़कियों को कुछ गलत बहानों से तलाक दे दिया जाता है। बात तो यहां तक भी बिगड़ चुकी है की कुछ लड़कियों से तलाक ना मिलने पर ससुराल वाले उन्हें जलाकर मार चुके हैं। आज दहेज प्रथा कैंसर की तरह समाज को नष्ट करते चले जा रहा हैं। सरकार भी दहेज प्रथा को रोकने के लिए कई प्रकार के नियम बना रही है परंतु दहेज प्रथा कुछ इस तरीके से पूरे देश में फैल चुका है कि अब इसे रोकना कोई आसान काम नहीं है। साथ ही कन्या भूर्ण हत्या को रोकने के लिए सरकार ने लड़कियों के लिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान या सुकन्या समृद्धि योजना जैसी योजनाएं भी शुरु की है। आज लड़कियां लड़कों के साथ कंधा मिलाकर देश के हर एक क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं। पता नहीं फिर भी लोगों के समझ में क्यों नहीं आ रहा है कि लड़का-लड़की एक समान। आज के इस आधुनिक युग में भी हमें दहेज प्रथा के खिलाफ कदम उठाने होंगे और हमें मिलकर प्रण लेना होगा कि ना ही हम दहेज लेंगे और ना किसी को लेने देंगे। निष्कर्ष Conclusion दहेज प्रथा के कारण ही नारी जाती को कई प्रकार के अत्याचार को सहना पड़ा है। आज हमें हर घर तक इस संदेश को पहुंचाना ही होगा कि दहेज लेना पाप है और देना सही नहीं है। आज हमें मिलजुल कर कसम खाना होगा की हमजाति प्रथा को उखाड़ फेकेंगे और भारत को एक उन्नत शांतिपूर्ण देश बनाएंगे। आशा करते हैं आपको दहेज़ प्रथा पर निबंध Dowry System Essay in Hindi अच्छा लगा होगा। Categories.

Next

Essay On Dowry System

essay of dowry system in hindi

The intentions were very clear. दहेज मूल रूप से शादी के दौरान दुल्हन के परिवार द्वारा दूल्हे के परिवार को दिए नकदी, आभूषण, फर्नीचर, संपत्ति और अन्य कीमती वस्तुओं आदि की इस प्रणाली को दहेज प्रणाली कहा जाता है। यह सदियों से भारत में प्रचलित है।दहेज प्रणाली समाज में प्रचलित बुराइयों में से एक है। यह मानव सभ्यता पुरानी है और यह दुनिया भर में कई हिस्सों में फैली हुई है। दहेज़ प्रथा पर छोटे तथा लंबे निबंध Short and Long Essay on Dowry System in Hindi, Dahej Pratha par Nibandh Hindi mein निबंध 1 300 शब्द — क्या दहेज प्रणाली के कोई लाभ हैं प्रस्तावना दहेज प्रथा, जिसमें दुल्हन के परिवार को दूल्हे के परिवार के लिए नकदी के रूप में उपहार देने और कीमती चीजें देना भी शामिल है, की काफी हद तक समाज द्वारा निंदा की जाती है लेकिन कुछ लोगों का तर्क यह भी है कि इसका अपना महत्व है और लोग अभी भी इसका अनुसरण कर रहे हैं तथा यह दुल्हन को कई तरीकों से लाभ पहुँचा रही है। क्या दहेज प्रणाली के कोई लाभ हैं? For any help regarding education Students please comment us. लड़कियों के साथ भेदभाव — दहेज प्रथा के कारण लड़कियों का उन्हीं के परिवार में भेदभाव किया जाता है क्योंकि लोग मानते है कि लड़कियां तो पराई होती है इसलिए वे उनको ना तो पढ़ाते लिखाते है ना ही उन्हें किसी प्रकार के कार्य करने की आजादी होती है। कई परिवारों में तो यह भी देखा गया है कि लड़कों की तुलना में लड़कियों को खाने और पहनने के लिए कम वस्तुएं दी जाती है। उन्हें घर से बाहर जाने की आजादी नहीं होती है। 3. . सवाल यह है कि दहेज को एक दंडनीय अपराध घोषित करने के बाद और कई अभियानों के माध्यम से इस प्रथा के असर के बारे में जागरूकता फैलाने के बाद भी लोग इसका पालन क्यों कर रहे हैं? Sanctioning a regulation, definitely Society ought to take a stab at orientation uniformity. Dowry system is one of the social evils which is in practice till now.

Next

Essay On Dowry System In Hindi

essay of dowry system in hindi

People hoard illegal wealth because they have to incur heavy dowry expediture at the time of marriage of. I doe now publish my Essayes; which, of all my other workes, have. . TheDowry System fluctuates from one state to another and furthermore hands on profile of the lucky man. Click Here To Subscribe. लड़कियों का शोषण — दहेज प्रथा के कारण आए दिन लड़कियों का शोषण हो रहा है क्योंकि जब लड़के वालों को शादी में पर्याप्त धन नहीं मिलता है तो वे लड़की से कहते है कि अपने घरवालों से और अधिक धन की मांग करें अगर वह ऐसा नहीं करती है तो वह उसे मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ना देते है कभी-कभी यह प्रताड़ना इतनी बढ़ जाती है कि लड़कियां आत्महत्या तक कर लेती है। वर्तमान में तो यह भी देखने में आया है कि लड़कियों को दहेज के लिए या तो उन्हें जिंदा जला दिया जाता है या फिर उन्हें कहीं और ले जा कर उनकी हत्या कर दी जाती है। सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय कि 2016 की रिपोर्ट के अनुसार 7621 महिलाओ को दहेज के लिए मार दिया गया. .

Next

दहेज़ प्रथा पर निबंध

essay of dowry system in hindi

सवाल यह है कि दहेज को दंडनीय अपराध बनाने और कई अभियानों के माध्यम से इस प्रणाली के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाने के बाद भी लोग अभी भी इसका अभ्यास क्यों करते हैं? As founder of the first acting system and co-founder of the Moscow Art Theatre, Konstantin Stanislavski challenged. Today we are going to explain how to write an essay on dowry system in Hindi language. Thus, we as a whole should start making a move to battle it. I hope that in 2020 AD, India will rid itself from the discriminating nature. The two of them ought to be taught and given the opportunity to be totally independent. जी हाँ दहेज लेना और देना दोनों जुर्म है.

Next

Essay on Dowry System in Hindi 150 and 300 Words दहेज प्रथा पर निबंध

essay of dowry system in hindi

The Education System Today There Is Some Changes. आज के इस लेख में हमने दहेज़ प्रथा पर निबंध Dowry System Essay in Hindi हिन्दी में लिखा है। आज दहेज़ प्रथा एक अभिशाप बन चूका है। छोटे से बड़े सभी शादियों में दहेज़ की मांग को देखा गया है। इसी दहेज़ के लेन और देन के कारण ही विवाह के पश्चात महिलाओं के साथ तो आईये आपको शुरू करते हैं — दहेज़ प्रथा एक अभिशाप पर निबंध Dowry System Essay in Hindi दहेज़ प्रथा पर निबंध Dowry System Essay in Hindi 900 Words हमारे चिंता इस बात की नहीं होती है की लड़की की पढ़ाई कैसे करवाएंगे? In India, marriage is a major undertaking where the two sides of the family call every one of the family members and need to organize everything from the very outset till the finish of the wedding function. बेरोजगारी — जी हां बेरोजगारी भी दहेज प्रथा का एक मुख्य कारण है क्योंकि जब बेरोजगार युवकों की शादी के लिए प्रस्ताव आता है तो वह कहते है कि हमें अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए आप कुछ धन की सहायता कीजिए जिससे कि हम विवाह के पश्चात अपना जीवन सुख पूर्वक निर्वाह कर सकें। वह धन की सहायता के रूप में दहेज लेते है और दहेज प्रथा को बढ़ावा देते है। ऐसे लोग ना ही तो व्यवसाय करते है ना ही कोई नौकरी करते है यह लोगों दहेज के पैसों से ही अपना जीवन यापन करना चाहते है और दहेज के पैसे खत्म होते ही उस लड़की को प्रताड़ित करने लगते है कि वह अपने घरवालों से और दहेज लेकर आए। इस पर आपने कई कहानियां, फिल्में और नाटक भी देखे होंगे। दहेज प्रथा के दुष्परिणाम Effects of Dowry System in Hindi — वर्तमान में आप देख ही रहे होंगे कि दहेज प्रथा के कारण महिलाओं का कितना शोषण हो रहा है उनको कितना प्रताड़ित किया जा रहा है। आए दिन खबरों में आता रहता है कि दहेज के लिए लड़के वालों वालों ने लड़की को जिंदा जलाकर मार डाला या फिर उस को घर से बाहर निकाल दिया। इससे आप सीधा अनुमान लगा सकते है कि लोगों की मानसिकता उनकी सोचने की शक्ति कितने हद तक नीचे गिर गई है। दहेज प्रथा के कारण जब भी किसी परिवार में लड़की पैदा हो जाती है तो लोग खुश होने की वजह से सहम जाते है। क्योंकि उनको इस बात की चिंता सताती है कि अब इसके विवाह के लिए दहेज कहां से लाएंगे। दहेज का यह विकराल रूप हम बढ़ते हुए देख रहे है लेकिन इसके खिलाफ हम कोई आवाज नहीं उठा रहे है। जिसके कारण आए दिन लड़कियों का शोषण होता रहता है। अगर आप दहेज लेते या देते है और या फिर इसका समर्थन करते है तो आप भी कानून की नज़रों में गुनहगार है आप भी इसको बढ़ाने में सहयोग कर रहे है इसलिए जब भी आप ऐसा होते हुए देखें तो इसका विरोध करें और पुलिस को इसकी सूचना दें। दहेज प्रथा के दुष्परिणाम इस प्रकार है- 1. . ADVERTISEMENTS: दहेज प्रथा Dowry System in Hindi! Instruction and opportunity are the two most impressive and significant gifts that guardians can provide for their girls.

Next