Crpc 188 in hindi. धारा 181 क्या है 2022-10-17

Crpc 188 in hindi Rating: 9,8/10 427 reviews

Social change refers to the transformation of cultural, economic, political, and societal institutions and practices. It can be driven by a variety of forces, both internal and external to a society.

One major force of social change is technological advancement. The invention and dissemination of new technologies can fundamentally alter the way societies function and interact. For example, the printing press, telephone, and internet have all had major impacts on the way information is transmitted and disseminated, leading to changes in the way people communicate and access knowledge. Similarly, advances in transportation and energy production have had significant effects on economic systems and patterns of trade.

Another important force of social change is demographic shifts. Changes in the size and composition of a population can have significant impacts on a society. For example, an aging population may lead to changes in healthcare and pension systems, while a growing population may strain resources and infrastructure. Migration, whether voluntary or forced, can also bring about social change as people from different cultural backgrounds interact and integrate into new societies.

Economic shifts can also drive social change. Changes in the distribution of wealth and the rise of new economic systems can lead to shifts in power dynamics and social hierarchies. For example, the Industrial Revolution led to the rise of capitalism and the growth of a middle class, while the recent trend towards globalization has led to the rise of multinational corporations and increased economic interdependence between countries.

Political systems and ideologies can also be a force for social change. Revolutions and political reforms can lead to the overthrow of oppressive regimes and the establishment of new systems of governance. Political movements, such as feminism and civil rights, can also bring about social change as they advocate for the rights and equal treatment of marginalized groups.

Finally, cultural and social norms can also be a driving force for social change. The acceptance and rejection of certain behaviors and beliefs can lead to shifts in societal values and attitudes. For example, the acceptance of LGBTQ+ rights and the rejection of racial discrimination have led to significant social change in recent years.

In conclusion, social change can be driven by a variety of forces, including technological advancement, demographic shifts, economic changes, political systems and ideologies, and cultural and social norms. Understanding these forces can help us better understand the social, political, and economic changes that are occurring in the world around us.

सीआरपीसी की धारा 188 क्या है

crpc 188 in hindi

Section 188 CrPC in Hindi and English Section 188 of CrPC 1973 :- 188. મુદત માટે જે એક મહિના સુધી લંબાઈ શકે છે, અથવા દંડ જે બેસો રૂપિયા સુધી લંબાઈ શકે છે, અથવા બંને સાથે; અને જો આવી આજ્edાભંગ માનવ જીવન, આરોગ્ય અથવા સલામતીને જોખમમાં મૂકે છે અથવા તોફાનો કરે છે અથવા તોફાનો અથવા તોફાનોનું કારણ બને છે, તો તેને વર્ણનની કેદની સજા થશે, છ મહિના સુધી લંબાવવામાં આવી શકે તેવા સમયગાળા માટે અથવા તો દંડની સજા થશે. Thus, registration of FIR and commencement of proceedings qua petitioner is impermissible under the provisions of Code of Criminal Procedure. The views expressed in comments published on newindianexpress. The bench of Justice Namit Kumar of the Punjab and Haryana High Court in the case of Pritam Singh Vs State of Punjab held that it would not be open to the police to register a case against the offender for offence under Section 188 IPC and then to submit a report under Section 173 Cr. They do not represent the views or opinions of newindianexpress.


Next

Lakshadweep bars entry into 17 islands citing threat to national security

crpc 188 in hindi

कोर्ट फैसला जब देगा तो उसमे क्या क्या होगा और क्या प्रक्रिया अपनायी जाती है। अपील में किस कोर्ट में और कितने दिन में जाना होगा? KAVARATTI: The Lakshadweep administration has prohibited entry into 17 of the total 36 islands citing national security and public safety concerns. A ने या विभागात परिभाषित केलेला गुन्हा केला आहे. अगर अपराधी या गवाह न्यायलय के बुलावे के बाद भी कोर्ट न पहुंचे तो क्या प्रक्रिया अपनायी जाएगी? जब देश, राज्य या किसी शहर में कोई आपातकाल जैसी स्तिथि की बात सामने आती है, या किसी युद्ध, महामारी या फिर किसी बड़ी परेशानी को रोकने या उससे बचाव के लिए किसी राज्य सरकार या किसी प्रशासनिक अधिकारी द्वारा कोई ऐसा आदेश पास किया जाता है, जिसमें देश, राज्य या किसी शहर के नागरिकों को कोई कार्य करने के लिए या कोई कार्य न करने के लिए आदेश दिया जाता है, जिस आदेश का मूल उद्देश्य केवल देश हित को बरक़रार रखने का ही होता है। यदि कोई व्यक्ति जो ऐसे आदेश का पालन नहीं करता है, तो इस प्रकार के आदेश के सही क्रियान्वयन के लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 188 बनाई गयी है। कर्फ्यू क्या होता है? તે એટલું પૂરતું છે કે તે જે હુકમનો અનાદર કરે છે તે જાણે છે, અને તેની આજ્edાનું ઉલ્લંઘન નુકસાન પહોંચાડે છે, અથવા કરે તેવી શક્યતા છે. मुदतीसाठी जो एक महिन्यापर्यंत वाढू शकतो, किंवा दंड जो दोनशे रुपयांपर्यंत वाढू शकतो, किंवा दोन्हीसह; आणि जर अशा आज्ञाभंगामुळे मानवी जीवन, आरोग्य किंवा सुरक्षितता धोक्यात येऊ शकते किंवा दंगल किंवा दंगल घडते किंवा कारणीभूत ठरते, तर त्यांना कोणत्याही वर्णनाच्या कारावासाने शिक्षा होईल, सहा महिन्यांपर्यंत वाढू शकणाऱ्या मुदतीसाठी किंवा दंडासह एकतर वर्णनाची शिक्षा होऊ शकते. The 17 are uninhabited isles of the Union Territory and permission for the entry from the sub-divisional magistrate is required.

Next

CRPC Full Form In Hindi: CRPC क्या है व किसे कहते है? पूरी जानकारी

crpc 188 in hindi

A has committed the offence defined in this section. Disobedience to order duly promulgated by public servant. જે એક હજાર રૂપિયા અથવા બંને સાથે વિસ્તૃત થઈ શકે છે. A knowingly disobeys the order, and thereby causes danger of riot. ઉદાહરણ એક ધાર્મિક સરઘસ કોઈ ચોક્કસ રસ્તા પરથી પસાર ન થાય તે નિર્દેશ આપતા જાહેર સેવક દ્વારા એવો આદેશ જાહેર કરવા માટે કાયદેસર રીતે અધિકૃત આદેશ આપવામાં આવે છે. SECTION 188 IPC IN ENGLISH Whoever, knowing that, by an order promulgated by a public serv­ant lawfully empowered to promulgate such order, he is directed to abstain from a certain act, or to take certain order with certain property in his possession or under his management, disobeys such direction, shall, if such disobedience causes or tends to cause obstruction, annoyance or injury, or risk of obstruction, annoyance or injury, to any person lawfully employed, be punished with simple impris­onment for a term which may extend to one month or with fine which may extend to two hundred rupees, or with both; and if such disobedience causes or trends to cause danger to human life, health or safety, or causes or tends to cause a riot or affray, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to six months, or with fine which may extend to one thousand rupees, or with both. Ltd के रजिस्टर्ड ट्रेडमार्क है.

Next

SECTION 188 IPC IN HINDI सजा दण्ड पूरी जानकारी

crpc 188 in hindi

It is sufficient that he knows of the order which he disobeys, and that his disobedience produces, or is likely to produce, harm. कर्फ्यू एक प्रकार का सख्त जनादेश होता है, जो लोगों को सड़कों पर उतरने से दूर रखता है। यह राज्य के नियमों के अनुसार और आपातकालीन स्थितियों में घोषित किया जाता है। इसके दौरान लोग निर्धारित घंटों के लिए घर के अंदर रहने पर मजबूर होते हैं। कर्फ्यू का अपालन करने पर जुर्माना या गिरफ्तारी भी हो सकती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कहने पर 22 मार्च, 2020 रविवार को किया गया जनता कर्फ्यू वास्तविक कर्फ्यू से काफी अलग था। जनता कर्फ्यू खुद नागरिकों द्वारा लगाया गया कर्फ्यू था। ऐसी स्थिति के दौरान, भले ही सभी को सार्वजनिक स्थानों पर या बाहर न निकलने की सलाह दी गई थी, लेकिन इसका अपालन करने पर कोई दंड नहीं था। लेकिन देश में चुनावों के समय आपने कर्फ्यू के बारे में बहुत सुना होगा जिसमें किसी सार्वजनिक स्थान पर चार से अधिक व्यक्ति एकत्र होने पर वे सभी इस आदेश का पालन न करने के दोषी कहे जाते हैं, और वे सभी दंड के भागीदार बन जाते हैं। लॉकडाउन क्या है? It is sufficient that he knows of the order which he disobeys, and that his disobedience produces, or is likely to produce, harm. धारा 188 का विवरण भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अनुसार, जो भी कोई यह जानते हुए कि वह ऐसे लोक सेवक द्वारा प्रख्यापित किसी आदेश से, जिसे प्रख्यापित करने के लिए लोक सेवक विधिपूर्वक सशक्त है, कोई कार्य करने से बचे रहने के लिए या अपने कब्जे या प्रबन्धाधीन, किसी संपत्ति के बारे में कोई विशेष व्यवस्था करने के लिए निर्दिष्ट किया गया है, ऐसे निदेश की अवज्ञा करेगा; यदि ऐसी अवज्ञा - विधिपूर्वक नियुक्त व्यक्तियों को बाधा, क्षोभ या क्षति, अथवा बाधा, क्षोभ या क्षति का जोखिम कारित करे, या कारित करने की प्रवॄत्ति रखती हो,तो उसे किसी एक अवधि के लिए सादा कारावास की सजा जिसे एक मास तक बढ़ाया जा सकता है, या दौ सौ रुपए तक के आर्थिक दण्ड या दोनों से दण्डित किया जाएगा; और यदि ऐसी अवज्ञा मानव जीवन, स्वास्थ्य या सुरक्षा को संकट कारित करे, या कारित करने की प्रवॄत्ति रखती हो, या उपद्रव या दंगा कारित करती हो, या कारित करने की प्रवॄत्ति रखती हो, तो उसे किसी एक अवधि के लिए कारावास की सजा जिसे छह मास तक बढ़ाया जा सकता है, या एक हजार रुपए तक के आर्थिक दण्ड या दोनों से दण्डित किया जाएगा। स्पष्टीकरण--यह आवश्यक नहीं है कि अपराधी का आशय क्षति उत्पन्न करने का हो या उसके ध्यान में यह हो कि उसकी अवज्ञा करने से क्षति होना संभाव्य है । यह पर्याप्त है कि जिस आदेश की वह अवज्ञा करता है, उस आदेश का उसे ज्ञान है, और यह भी ज्ञान है कि उसके अवज्ञा करने से क्षति उत्पन्न होती या होनी संभाव्य है। लागू अपराध लोक सेवक द्वारा विधिवत रूप से प्रख्यापित आदेश की अवज्ञा। 1. C and what is it called? Ltd के रजिस्टर्ड ट्रेडमार्क है. हमारी रिफंड और कैंसलेशन पालिसी देखे LawRato. Try to avoid outside hyperlinks inside the comment.

Next

धारा 181 क्या है

crpc 188 in hindi

A knowingly disobeys the order, and thereby causes danger of riot. A એ આ વિભાગમાં વ્યાખ્યાયિત ગુનો કર્યો છે. Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 188 of Criminal Procedure Code 1973: Om Hemrajani vs State Of U. But we need to be judicious while moderating your comments. तो पुरेसा आहे की तो ज्या आदेशाची आज्ञा पाळत नाही त्याला माहित आहे, आणि त्याच्या आज्ञाभंगामुळे हानी होते, किंवा होण्याची शक्यता आहे. जे एक हजार रुपयांपर्यंत किंवा दोन्हीसह वाढू शकते.

Next

HC expounds Not permissible for the Police to file a Case u/S. 188 IPC and then submit a report to the appropriate court u/S. 173 CrPC [Read Judgment]

crpc 188 in hindi

BRIEF FACTS The factual matrix of the case is that the team of police officials was present and patrolling during ongoing Vidhan Sabha elections. We do not claim any facts states here and hyperlink placed. It was further submitted that there is a complete violation of Section 195 Cr. आईपीसी की धारा 188 ipc 188 लोक सेवक द्वारा विधिवत प्रख्यापित आदेश की अवज्ञा Disobedience to order duly promulgated by public servant. Help us delete comments that do not follow these guidelines. Section 95 - कुछ प्रकाशनों के समपहृत होने की घोषणा करने और उनके लिए तलाशी वारण्ट जारी करने की शक्ति Power to declare certain publications forfeited and to issue search warrants for the same Section 96 - समपहरण की घोषणा को अपास्त करने के लिए उच्च न्यायालय में आवेदन Application to High Court to set aside declaration of forfeiture Section 97 - सदोष परिरुद्ध व्यक्तियों के लिए तलाशी Search for persons wrongfully confined Section 98 - अपहृत स्त्रियों को वापस करने के लिए विवश करने की शक्ति Power to compel restoration of abducted females Section 99 - तलाशी वारण्टों का निदेशन आदि Direction, etc. Thus, it deserves to be quashed.

Next

CrPC 188: Section 188 of the Criminal Procedure Code

crpc 188 in hindi

The decision on the proclamation was taken on Wednesday to prevent terrorist or smuggling activities on the uninhabited islands which have temporary structures as houses of labourers who harvest coconuts. किस तरह से गिरफ्तार करेगी? Disclaimer : We respect your thoughts and views! It warned violators of punishment under section 188 disobedience to order duly promulgated by public servant of the IPC which provides for a jail-term between one and six months or a fine. इसको भी यहाँ जानेंगे, साथ ही इस पोर्टल www. चित्रण असा आदेश जारी करण्यासाठी कायदेशीररित्या अधिकार देण्यात आलेला आदेश सार्वजनिक सेवकाने जारी केला आहे की धार्मिक मिरवणूक एका विशिष्ट रस्त्यावरून जाणार नाही. Read more about at Disclaimer. जाणीवपूर्वक आदेशाचे उल्लंघन करते, आणि अशा प्रकारे दंगलीचा धोका निर्माण करतो. The administration said there could be people among them involving in illegal, anti-social and anti-national activities, hence the decision.

Next

धारा 188 क्या है

crpc 188 in hindi

Abstain from posting comments that are obscene, defamatory or inflammatory, and do not indulge in personal attacks. It was further held that it is abundantly clear that registration of FIR is nothing but is in complete violation of legal proposition as well as settled canons of law, especially, in the circumstances that admittedly, no complaint in writing by Public Servant concerned has been moved as is required under Section 195 1 Cr. . ઇરાદાપૂર્વક આદેશનો અનાદર કરે છે, અને આમ તોફાનોનું જોખમ ભું કરે છે. हमारी रिफंड और कैंसलेशन पालिसी देखे LawRato. किस अपराध के सम्बन्ध में FIR दायर की जा सकती है और किस मामले में नहीं? CASE NAME- Pritam Singh Vs State of Punjab CITATION- CRM-M-9551 of 2022. यदि ऐसी अवज्ञा - विधिपूर्वक नियुक्त व्यक्तियों को बाधा, क्षोभ या क्षति, कारित करे। सजा - एक मास सादा कारावास या दौ सौ रुपए आर्थिक दण्ड या दोनों। यह एक जमानती, संज्ञेय अपराध है और किसी भी मेजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है। 2.

Next

धारा 188 CrPC

crpc 188 in hindi

कोरोना वायरस महामारी के दौरान लॉकडाउन एक आम शब्द बन गया है। लॉकडाउन एक आपातकालीन प्रोटोकॉल है, जो लोगों को किसी दिए गए क्षेत्र को छोड़ने से रोकता है। इसका मतलब है, लोगों को घर छोड़ने से रोकने के लिए एक बड़ा कदम उठाना है। आपको घर छोड़ने या फिर सफर करने के लिए प्रमाण की ज़रूरत पड़ती है। लॉकडाउन आपको एक ही जगह पर रहने के लिए मजबूर करता है, और आप एक जगह से बाहर या दूसरी जगह पर प्रवेश नहीं कर सकते। हालांकि, एक लॉकडाउन के दौरान खाने - पीने, दवाइयां या ऐसे ही ज़रूरत के सामान पर रोक नहीं लगती। यह परिदृश्य आमतौर पर आवश्यक आपूर्ति, किराने की दुकानों, फार्मेसियों और बैंकों को लोगों की सेवा जारी रखने की अनुमति देता है। लॉकडाउन की अवधि तक सभी गैर - जरूरी गतिविधियां पूरी अवधि के लिए बंद रहती हैं। लेकिन लॉकडाउन के समय आवश्यक गतिविधियों की पूर्ति के लिए अलग - अलग राज्य सरकार अपनी रुपरेखा बनती है, जिसका आम जनता के साथ - साथ उस राज्य के सभी नागरिक अनुसरण करते हैं। और जो लोग इस आदेश का पालन नहीं करते हैं और बिना मतलब के सड़कों पर घूमते पाए जाते हैं, तो उन सभी लोगों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अनुसार कार्यवाही की जाती है। धारा 188 का क्या असर पड़ता है? Illustration An order is promulgated by a public servant lawfully empowered to promulgate such order, directing that a religious procession shall not pass down a certain street. Section 141 - आदेश अंतिम कर दिए जाने पर प्रक्रिया और उसकी अवज्ञा के परिणाम Procedure on order being made absolute and consequences of disobedience Section 142 - जांच के लंबित रहने तक व्यादेश Injunction pending inquiry Section 143 - मजिस्ट्रेट लोक न्यूसेस की पुनरावृत्ति या उसे चालू रखने का प्रतिषेध कर सकता है Magistrate may prohibit repetition or continuance of public nuisance Section 144 - न्यूसेंस या आशंकित खतरे के अर्जेण्ट मामलों में आदेश जारी करने की शक्ति Power to issue order in urgent cases of nuisance or apprehended danger Section 144 A - आयुध सहित जुलूस या सामूहिक कवायद या सामूहिक प्रशिक्षण के प्रतिषेध की शक्ति Power to prohibit carrying arms in procession or mass drill or mass training with arms Section 145 - जहाँ भूमि या जल से संबद्ध विवादों से परिशांति भंग होना संभाव्य है वहाँ प्रक्रिया Procedure where dispute concerning land or water is likely to cause breach of peace Section 146 - विवाद की विषयवस्तु की कुर्क करने की और रिसीवर नियुक्त करने की शक्ति Power to attach subject of dispute and to appoint receiver Section 147 - भूमि या जल के उपयोग के अधिकार से संबद्ध विवाद Dispute concerning right of use of land or water Section 148 - स्थानीय जांच Local inquiry Section 149 - पुलिस का संज्ञेय अपराधों का निवारण करना Police to prevent cognizable offences Section 150 - संज्ञेय अपराधों के किए जाने की परिकल्पना की इत्तिला Information of design to commit cognizable offences Section 151 - संज्ञेय अपराधों का किया जाना रोकने के लिए गिरफ्तारी Arrest to prevent the commission of cognizable offences Section 152 - लोक संपत्ति की हानि का निवारण Prevention of injury to public property Section 153 - बाटों और मापों का निरीक्षण Inspection of weights and measures Section 154 - संज्ञेय मामलों में इत्तिला Information in cognizable cases Section 155 - असंज्ञेय मामलों के बारे में इत्तिला और ऐसे मामलों का अन्वेषण Information as to non-cognizable cases and investigation of such cases Section 156 - संज्ञेय मामले का अन्वेषण करने की पुलिस अधिकारी की शक्ति Police officer's power to investigate cognizable case Section 157 - अन्वेषण के लिए प्रक्रिया Procedure for investigation Section 158 - रिपोर्ट कैसे दी जाएगी Report how submitted Section 159 - अन्वेषण या प्रारंभिक जांच करने की शक्ति Power to hold investigation or preliminary inquiry Section 160 - साक्षियों की हाजिरी की अपेक्षा करने की पुलिस अधिकारी की शक्ति Police Officer's power to require attendance of witnesses Section 161 - पुलिस द्वारा साक्षियों की परीक्षा Examination of witnesses by police Section 162 - पुलिस से किए गए कथनों का हस्ताक्षरित न किया जाना : कथनों का साक्ष्य में उपयोग Statements to police not to be signed : Use of statements in evidence Section 163 - कोई उत्प्रेरणा न दिया जाना No inducement to be offered Section 164 - संस्वीकृतियों और कथनों को अभिलिखित करना Recording of confessions and statements Section 164 क - बलात्संग के पीड़ित व्यक्ति की चिकित्सीय परीक्षा Medical examination of the victim of rape Section 165 - पुलिस अधिकारी द्वारा तलाशी Search by police officer Section 166 - पुलिस थाने का भारसाधक अधिकारी कब किसी अन्य अधिकारी से तलाशी वारण्ट जारी करने की अपेक्षा कर सकता है When officer in charge of police station may require another to issue search-warrant Section 166 क - भारत के बाहर किसी देश या स्थान में अन्वेषण के लिए सक्षम प्राधिकारी को अनुरोध-पत्र Letter of request to competent authority for investigation in a country or place outside India Section 166 ख - भारत के बाहर के किसी देश या स्थान से भारत में अन्वेषण के लिए किसी न्यायालय या प्राधिकारी को अनुरोध-पत्र Letter of request from a country or place outside India to a Court or an authority for investigation in India Section 167 - जब चौबीस घण्टे के अन्दर अन्वेषण पूरा न किया जा सके तब प्रक्रिया Procedure when investigation cannot be completed in twenty-four Section 168 - अधीनस्थ पुलिस अधिकारी द्वारा अन्वेषण की रिपोर्ट Report of investigation by subordinate police officer Section 169 - जब साक्ष्य अपर्याप्त हो तब अभियुक्त को छोड़ा जाना Release of accused when evidence deficient Section 170 - जब साक्ष्य पर्याप्त है तब मामलों का मजिस्ट्रेट के पास भेज दिया जाना Cases to be sent to Magistrate when evidence is sufficient Section 171 - परिवादी और साक्षियों से पुलिस अधिकारी के साथ जाने की अपेक्षा न किया जाना और उनका अवरुद्ध न किया जाना Complainant and witnesses not to be required to accompany police officer and not to be subjected to restraint Section 172 - अन्वेषण में कार्यवाहियों की डायरी Diary of proceedings in investigation Section 173 - अन्वेषण के समाप्त हो जाने पर पुलिस अधिकारी की रिपोर्ट Report of police officer on completion of investigation Section 174 - आत्महत्या, आदि पर पुलिस की जांच करना और रिपोर्ट देना Police to enquire and report on suicide, etc Section 175 - व्यक्तियों को समन करने की शक्ति Power to summon persons Section 176 - मृत्यु के कारण की मजिस्ट्रेट द्वारा जांच Inquiry by Magistrate into cause of death Section 177 - जांच और विचारण का मामूली स्थान Ordinary place of inquiry and trial Section 178 - जांच या विचारण का स्थान Place of inquiry or trial Section 179 - अपराध वहाँ विचारणीय होगा जहाँ कार्य किया गया या जहाँ परिणाम निकला Offence triable where act is done or consequence ensues Section 180 - जहाँ कार्य अन्य अपराध से संबंधित होने के कारण अपराध है, वहाँ विचारण का स्थान Place of trial where act is offence by reason of relation to other offence Section 181 - कुछ अपराधों की दशा में विचारण का स्थान Place of trial in case of certain offences Section 182 - पत्रों आदि द्वारा किए गए अपराध Offences committed by letters, etc. Illustration An order is promulgated by a public servant lawfully empowered to promulgate such order, directing that a religious procession shall not pass down a certain street. The administration said there could be people among them involving in illegal, anti-social and anti-national activities, hence the decision. Garg vs Superintendent District Jail on 28 October, 1970 Musaraf Hossain Khan vs Bhagheeratha Engg.

Next

CrPC Section 188

crpc 188 in hindi

धारा 181 का विवरण भारतीय दंड संहिता की धारा 181 के अनुसार, जो कोई शपथ दिलाने या प्रतिज्ञान देने के लिए विधि द्वारा प्राधिकॄत लोक सेवक या किसी अन्य व्यक्ति से, किसी विषय पर सत्य कथन करने के लिए शपथ या प्रतिज्ञान द्वारा वैध रूप से आबद्ध होते हुए ऐसे लोक सेवक या यथापूर्वोक्त अन्य व्यक्ति से उस विषय के संबंध में कोई ऐसा कथन करेगा, जो मिथ्या है, और जिसके मिथ्या होने का या तो उसे ज्ञान है, या विश्वास है या जिसके सत्य होने का उसे विश्वास नहीं है, तो उसे किसी भी अवधि के लिए कारावास जिसे तीन वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है, से दण्डित किया जाएगा, और साथ ही वह आर्थिक दण्ड के लिए भी उत्तरदायी होगा। लागू अपराध लोक सेवक के समक्ष शपथ या अभिपुष्टि पर झूठा बयान। सजा - तीन वर्ष कारावास और आर्थिक दण्ड। यह एक जमानती, गैर-संज्ञेय अपराध है और प्रथम श्रेणी के न्यायाधीश द्वारा विचारणीय है। यह अपराध समझौता करने योग्य नहीं है। LawRato. Satwant Singh vs The State Of Punjab And Connected on 28 October, 1959 Ajay Agarwal vs Union Of India And Ors on 5 May, 1993 Central Bureau Of Investigation vs State Of Rajasthan And Ors on 8 July, 1996 Rosiline George vs Union Of India on 11 October, 1993 Republic Of Italy Thr. सारे अधिकार रिजर्व्ड। 0. इनके बारे में पूर्ण रूप से इस धारा में चर्चा की गई है साथ ही दंड प्रक्रिया संहिता CrPC की धारा 188 कब नहीं लागू होगी ये भी बताया गया है? इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित या अन्य धाराओं से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप कमेंट बॉक्स के माध्यम से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है सीआरपीसी की धारा 154 क्या है. CRPC Full Form— तो दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आज के समय में अपराध काफी हद तक बढ़ चुके हैं जिसके बहुत से कारण है तो फिर आप सभी अभी जानते ही होंगे कि अपराध भी बहुत से प्रकार के होते हैं और उन सभी अपराधों के लिए भारत की सरकार के द्वारा अलग-अलग कानून बनाए गए हैं जिसके तहत उनको उनके जून के अनुसार ही सजा दी जाती है भारत के संविधान में मूर्ति धाराएं बताई गई है जिसके तहत सभी जुर्म करने वाले लोगों के लिए अलग-अलग कानून व धाराएं हैं जिसके तहत सभी जुर्म करने वाले लोगों को अलग-अलग सजा दी जाती है तो दोस्तों आप सभी को यह भी बता दें कि भारत मैं अपराध के कई मामलों की कार्यवाही को सीआरपीसी के अंतर्गत की जाती है। तो दोस्तों अब आप सभी यह सोच रहे होंगे कि यह सीआरपीसी क्या होता है CRPC Full Form In Hindi तो क्या आप इसके बारे में जानते हैं कि इस की फुल फॉर्म क्या होती है और यह क्या होता है? The District Magistrate DM of Lakshadweep issued a proclamation under Section 144 of the Criminal Procedure Code CrPC in this regard.

Next