Poem on trees in hindi. Trees Summary in hindi, Class 7 Poem 2022-10-28

Poem on trees in hindi Rating: 6,5/10 1564 reviews

The golden ratio, also known as the golden section or the divine proportion, is a mathematical concept that has captivated the minds of artists, architects, and mathematicians for centuries. The ratio, denoted by the Greek letter phi (φ), is approximately equal to 1.618 and is found in many natural and man-made objects.

The golden ratio can be described as the ratio of the smaller part of a whole to the larger part, or the ratio of the larger part to the whole. In mathematical terms, this can be expressed as a+b is to a as a is to b, or a/b = (a+b)/a.

One of the earliest known references to the golden ratio can be found in the writings of the ancient Greeks. The mathematician Euclid described the golden ratio as "the most beautiful of all proportions" in his work "Elements." The golden ratio also appears in the work of the ancient Greek sculptor Phidias, who used it to create aesthetically pleasing works of art.

The golden ratio has been used throughout history in a variety of contexts. In art, the golden ratio has been used to create compositions that are aesthetically pleasing to the eye. Architects have used the golden ratio to design buildings that are harmonious and pleasing to look at. The golden ratio has also been used in the design of websites and other digital media, as it is thought to be aesthetically pleasing to the human eye.

One of the most famous examples of the use of the golden ratio can be found in the design of the Parthenon in Athens. The Parthenon is considered to be a prime example of classical architecture, and its design incorporates the golden ratio in many ways. The length and width of the temple, as well as the height of the columns, all follow the golden ratio.

The golden ratio has also been found to occur in nature. The spiral patterns found in seashells and pinecones, for example, are believed to be based on the golden ratio. The human body also exhibits the golden ratio, with the ratio of the length of the hand to the length of the arm being approximately equal to the golden ratio.

Despite its widespread use and recognition, the golden ratio has also been the subject of some controversy. Some have argued that the golden ratio is overrated and that its importance has been exaggerated. Others have claimed that the golden ratio is not as common in nature as some believe.

In conclusion, the golden ratio is a mathematical concept that has fascinated people for centuries. It has been used in art, architecture, and design to create aesthetically pleasing compositions and has been found in a variety of natural objects. While it has been the subject of some controversy, the golden ratio remains an important and widely recognized concept.

Hindi Poem on Trees for UKG Class

poem on trees in hindi

सूरज की किरणों में तपकर, देते छाँव हमें वर्षों। व्यक्त नहीं कर सकता कोई, हमपर जो उपकार किया। वृक्षों ने जो कुछ भी पाया, उसे हमीं पे वार दिया।। कुलदीप पाण्डेय आजाद. हम पलंग, पालना और कपड़े उगाते हैं। हम ऑक्सीजन और ताजगी एकदम मुफ्त उगाते हैं। हम बादलों को बुलाने और धरती की मिटटी को थामे रखने वाले हाथ और उँगलियाँ उगाते हैं। हम क्या उगाते हैं, जब हम पेड़ लगाते हैं? Feel free to use it any way that you want. पेड़ों से ही हरियाली है इनकी छटा निराली है हम सब वृक्ष लगाएंगे कर्मवीर बन इस धरती को फिर से स्वर्ग बनाएंगे. खुद जहरीले धुंआ सोख तू प्राण — वायु कर रहा संचार! पेड़ों का महत्व Poem On Tree In Hindi यह Poem On Tree In Hindi मुख्य रूप से पेड़ो का महत्व के साथ साथ पदों से होने वाले फायदों के बारे में हम पेड़ पर कविता के माध्यम से बताएगे किस प्रकार पेड़ो से हमारा जीवन चल रहा है पेड़ हमारे जीवन में कितना महत्व रखते है? कई जीवित प्रजातियां पेड़ों में रहती हैं। पेड़ कई जानवरों, पक्षियों और कीड़ों के प्राकृतिक आवास का निर्माण करते हैं। पेड़ भूमि को उपजाऊ बनाने में मदद करते हैं। हमें उपजाऊ भूमि से अच्छी फसलें मिलती हैं। पेड़ Oxygen छोड़ते हैं जो हमें अपने जीवन के लिए चाहिए। वे carbon-dioxide कार्बन डाइऑक्साइड को भी अवशोषित करते हैं। वे फल और फूलों के भण्डार हैं। वे हमें गर्मियों के दौरान शांत और शीतल छाया प्रदान करते हैं। और उन्हें हमारी देखभाल और सुरक्षा की आवश्यकता है। आइये देखते हैं कुछ Tree Poems in Hindi Poem on Tree in Hindi. काट डाला उस टहनी को जिसके नीचे कभी बांधा था झूला! वृक्ष तू जीवन का आधार है धरती का अदभूत उपहार! आओ चलें वृक्ष लगायें वृक्ष.

Next

10+ पेड़ पर कविता

poem on trees in hindi

फल अरु फूल दिया है इसने, राही को भी छावं दिया। वृक्षों ने जो कुछ भी पाया, उसे हमीं पे वार दिया।। शिक्षा हमें कहाँ ले जाती, नैतिक यदि आधार नहीं। माना युग भी बदल रहा है, पर इतना अनुदार नहीं। कितनी भूमि यहाँ उर्वर है, नैतिकता विश्वास दिया। वृक्षों ने जो कुछ भी पाया, उसे हमीं पे वार दिया।। बिना पेड़ जीवन क्या संभव, समझ न पाता कोई क्यों? जब भी उसको चोट लगी तेरा हीं छाल — पत्ती तोड़ा! तेरे आगे नीलकंठ है मौन! मानव की नादानी बच्चों, मानव को ही खा जायेगी. हम रंग, फल-फूल और खुश्बू उगाते हैं। दवाएं, स्वाद और सेहत उगाते हैं। हम कागज़-कलम, कुर्सी और मेज उगाते हैं। हम पेड़ लगाते हैं, तो क्या उगाते हैं? मानव सेवा धर्म मानकर, अपना जीवन देते वृक्ष. Image: Ped Par Bal Kavita Read Also: पेड़ पर कविता हिंदी में Tree Poem in Hindi वृक्ष धरा के भूषण है करते दूर प्रदूषण है। हम सबको भाते हैं वृक्ष हरियाली लाते हैं वृक्ष। पत्थर खाकर भी फल देते हवा के विश्व को ये हर लेते। प्राण वायु हर पल ये देते फिर भी हमसे कुछ ना लेते। क्या दुनिया में कोई भी पेड़ों सा हितकारी है बिना स्वार्थ के सब कुछ देते पेड़ बड़े उपकारी है। उपकार मारना दूर ये मानव कितना अत्याचारी है काट-काट के पेड़ों को खुद पर ही कुल्हाड़ी मारी है। पेड़ लगाओ कविता Short Poem on Trees in Hindi पेड़ लगाओ पेड़ बचाओ पर कविता पेड़ लगाओ, पेड़ लगाओ, हरा भरा जीवन बनाओ। छाया ये हमको देते है, फल ये हमको देते है। बाढ़ से हमको बचाते है, प्रदुषण दूर हटाते हैं, हम भी पेड़ लगाएंगे, संसार को हरा भरा बनाएंगे। Image: Short Poem on Trees in Hindi वृक्षों का उपकार Tree Poem in Hindi काट रहे हो तुम वृक्षों को, कुछ भी नहीं विचार किया। वृक्षों ने जो कुछ भी पाया, उसे हमीं पे वार दिया।। इतना बड़ा हमारा जग है, क्षरण यहाँ स्वीकार नहीं। वे भी जीव इसी जग के हैं, जीना क्या अधिकार नहीं? जिसका तू नित्य जीवन देता वही तेरा कर रहा संहार! एक समय ऐसा आयेगा, धरती बंजर हो जायेगी. ~ अज्ञात Poem 8: चिड़िया कहाँ रहेगी? पथिकों को छाया देते हैं, गर्मी के मौसम में वृक्ष. नीर बादलों से लेते हैं, प्रतिदिन अपने श्रम से वृक्ष. पेड़ पर बाल कविता Best Poem On Tree In Hindi हेलों दोस्तों…. फल अरु फूल दिया है इसने, राही को भी छावं दिया। वृक्षों ने जो कुछ भी पाया, उसे हमीं पे वार दिया।। शिक्षा हमें कहाँ ले जाती, नैतिक यदि आधार नहीं। माना युग भी बदल रहा है, पर इतना अनुदार नहीं।। कितनी भूमि यहाँ उर्वर है, नैतिकता विश्वास दिया। वृक्षों ने जो कुछ भी पाया, उसे हमीं पे वार दिया।। बिना पेड़ जीवन क्या संभव, समझ न पाता कोई क्यों? हम क्या उगाते हैं, जब हम पेड़ लगाते हैं?.

Next

The Trees Poem Summary in hindi, Class 10 first flight

poem on trees in hindi

घर में पेड़ कहां से लाएं कैसे यह घोसला बनाएं कैसे फूटे अंडे जोड़ें किससे यह सब बात कहेगी अब यह चिड़िया कहां रहेगी? जिसका तू नित्य जीवन देता वही तेरा कर रहा संहार! पेड़ और पौधे सभी प्रकृति की एक अनोखी रचना है। यह पेड़ व पौधे हमारी धरती माँ को हरा-भरा रखते है और हमारे वातावरण को स्वच्छ व सुन्दर बनाते है। मानव और जानवर मानों हरदम इनपे ही निर्भर रहते है। यह पेड़ दूषित एवं जहरीली कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य गैसों को अवशोषित करके हमें व जानवरों को स्वच्छ ऑक्सीजन प्रदान करते है। यह वृक्ष कई महत्वपूर्ण चीज़ों के स्रोत भी है, जिसे मनुष्य अपनी दैनिक जीवन में उपयोग करते है। यह पेड़-पौधे हमें फल-फूल, विभिन्न प्रकार की औषधियाँ, लकड़ी, बांस, रंग, तेल, बीज़ इत्यादि। पेड़-पौधों का होना हमारे लिए बहुत उपयोगी है। इनकी वजह से ही हम सब धरती पर जीवित है। परन्तु वर्तमान समय में इनका अस्तित्व खतरे में पड़ता नज़र आ रहा है, इनका अंधाधुन शोषण हमारे लिए खतरनाक बनता जा रहा है। अगर हम मनुष्य समय रहते नही चेते तो यह समस्या गंभीर रूप ले लेगी और पूर्ण मानवजाति ख़तरे में पड़ जाएगी। जल-वायु परिवर्तन व पेड़ की कटान के कारन धरती के तापमान में वृद्धि जैसी कई अन्य समस्याएँ उत्पन्न हो रही है। हमें आज संकल्प लेना पड़ेगा और यह सुनिश्चित करना होगा कि आज से व अभी से पेड़ व पौधों को काटने से बचाना होगा व पौधारोपण को अपने जीवन में बढ़ावा देना होगा। आज हम आपके समक्ष पेड़ों की महत्त्वता बताते हुए Poem on Trees in Hindi साझा करते है, जिससे की हमारे प्यारे बच्चों व अन्य पाठकों को इनकी महत्त्वता ज्ञात हो सके। PoetryAdventure. जिसका तू नित्य जीवन देता वही तेरा कर रहा संहार! पेड़ वैश्विक पर्यावरण global environment और वहाँ रहने वाली प्रजातियों के स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं. Very recently, I have started sitting with my daughter and randomly trying to make rhymes in Hindi…it is a good pastime during the lockdown period and also helps in language learning for a kid. देते हैं फल फूल निरंतर, कभी नही कुछ लेते वृक्ष. पेड़हमारे लिए कितने उपयोगी है ये हर कोई जानता है पेड़ो के बिना हमारा जीवन संभव नही है ये भी हर कोई जानता है लेकिन फिर भी आज इंसान पेड़ो को सरे आम काटता जा रहा है, इंसान को ये समझना होगा की पेड़ो को काट कर वह अपने विनाश को न्योता दे रहा है आज पेड़ो को बचाना ओर लगाना बहुत जरुरी हो गया है आज हमइस पोस्ट मे पेड़ पर कविता लेकर आये है काट दोगे पेड़ - पौधे आज तो कल ऑक्सीजन कहाँ से पाओगे काट दोगे पेड़ - पौधे आज तो कल मीठा जल कहाँ से लाओगे धुप सतायेंगी कल अगर तुम्हे तो छाया के लिए पेड़ कहाँ से ढूढोगे भूख लगेगी कल अगर तुम्हे तो फल तोड़ के कहाँ से खाओगे इन सभी जरूरतों के बिना तुम अपनी जिंदगी कैसे बचाओगे इसलिए पेड़-पौधों को काटने से पहले एक बार तुम जरूर सोच लो पेड़ - पौधे है तो हम सब है ये बात तुम गांठ बाँध लो हमें हर खुशी के मौके पर एक पौधा जरूर लगाना है इस धरती को मिलकर हमने हरा भरा बनाना है -V singh पेड़ पर छोटी सी कविता. सत्य — अहिंसा ,के पुजारी बुध्द और गाँधी भी गौण! ऐसी हज़ारों चीज़ें, जिन्हें हम दिन में देखते हैं। हम गुंबद से भी ऊपर आनेवाला शिखर उगाते हैं। हम अपने देश का झंडा फहराने वाला स्तंभ उगाते हैं। सूरज की गर्मी से छाया मानो मुफ़्त ही उगाते हैं। हम क्या उगाते हैं, जब हम पेड़ लगाते हैं? वृक्ष पर कविता प्रकृति की देन हैं वृक्ष ईश्वर का वरदान हैं वृक्ष इनसे पूर्ण जीवन होता हमारा इनसे है संसार हमारा हर किसी को समझनी होगी ये बात वृक्ष लगाने में देना होगा अपना साथ अगली पीढ़ी को क्या देकर जाओगे सोचो एक बात यह भी ,यदि वृक्ष न लगाओगे साँस भी खुलकर न ले पाएंगे अपना नही तो उनका सोचो ये कदम उठाकर देखो अपने आस -पास पेड़ लगाकर देखो जीवन सुगम और स्वस्थ बनाओगे तुम खुद भी स्वस्थ और खुश दूसरों को भी स्वस्थ और सुखी बनाओगे तुम प्रकृति की देन है वृक्ष ,ईश्वर का वरदान है वृक्ष!! जिसका तू नित्य जीवन देता वही तेरा कर रहा संहार! कविताएँ मेरे जैसे मूर्ख ही बनाते हैं, पर केवल भगवान ही एक वृक्ष बना सकता है। ~ JOYCE KILMER Poem on Tree in Hindi: पेड़ हमेशा दुनिया भर के लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत रहे हैं। पेड़ों पर काफी कवितायें भी लिखी गयी हैं.


Next

5+ पेड़ पर कविता

poem on trees in hindi

जिसको तू नित्य जीवन देता वही तेरा कर रहा संहार! सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है पेड़ हमें कुदरत के अनुपम वरदान हैं। हमारे दैनिक जीवन के उपयोग की अधिकांश वस्तुएँ हमें पेड़ों से ही प्राप्त होती हैं। पशु पक्षियों का जीवन भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से पेड़ों पर ही निर्भर है। पेड़ों से वातावरण में नमी बनी रहती है जो वर्षा में सहायक है। पेड़ दूषित वायु कार्बन डाई आक्साइड का अवशोषण कर प्राण वायु आक्सीजन का उत्सर्जन करते हैं जो समस्त जीवों के जीवन के लिए आवश्यक है। पेड़ों की अंधाधुंध कटाई से पर्यावरण का संतुलन बिगड़ गया है जिससे धरती के तापमान में वृद्धि हो रही है। धरती पर जीवों के अस्तित्व के लिए पेड़ों का संरक्षण और संवर्धन अत्यन्त आवश्यक है। आइये पढ़ते हैं पेड़ पर हिंदी कविता :- पेड़ पर हिंदी कविता पेड़ बहुत होते उपयोगी सभी जानते लोग, बरसों से करते आए हैं हम इनका उपयोग। इनकी छाया में आएँ तो नहीं सताती धूप, आँखों में शीतलता भरता हरा सुहाना रूप। संग फलों के ये देते हैं तरह तरह के फूल, अपने ऊपर धारण करते उड़ी धरा की धूल। विषमय गैसें पीकर भी ये हवा बनाते शुध्द, कटने पर भी अंग अंग ये कभी न होते क्रुद्ध। पेड़ अगर होंगे ज्यादा तो वर्षा होगी खूब, बंजर भू पर फूट पड़ेगी खुशहाली की दूब। पर्यावरण बचाना है तो कभी न काटें पेड़, वरना सूखा आ धरती की लेगा खाल उधेड पेड़ों का उपकार न भूलें करें इन्हें हम प्यार, पेड़ हमारे जीवनदाता धरती का श्रृंगार। कोटा, राजस्थान के रहने वाले सुरेश चन्द्र "सर्वहारा" जी स्वैच्छिक सेवानिवृत्त अनुभाग अधिकारी रेलवे हैं। सुरेश जी एक वरिष्ठ कवि और लेखक हैं। ये संस्कृत और हिंदी में परास्नातक हैं। इनकी कई काव्य पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं जिनमें नागफनी, मन फिर हुआ उदास, मिट्टी से कटे लोग आदि प्रमुख हैं। इन्होंने बच्चों के लिए भी साहित्य में बहुत योगदान दिया है और बाल गीत सुधा, बाल गीत सुमन, बच्चों का महके बचपन आदि पुस्तकें भी लिखी हैं।. My daughter likes it and has in fact started making some lines which rhyme. लेकिन मानव दानव बन कर, सारे जंगल पाट रहा है. Poem on Tree in Hindi आंधी आई जोर शोर से डाली टूटी है झकोर से उड़ा घोसला बेचारी का किससे अपनी बात कहेगी अब यह चिड़िया कहां रहेगी? Poem on Tree in Hindi आज हमने पेड़ पर कविता हिंदी में लिखी है दोस्तो आपको यह तो पता होगा पेड़ हमारे लिए कितने उपयोगी है पेड़ के बिना हमारा जीवन संभव नहीं है इन कविताओं के माध्यम से हमने पेड़ों की महानता को दर्शाया है इन कविताओं के माध्यम से हम यह जानेगे की पेड़ हमारे लिए कितने उपयोगी है पेड़ नहीं हो तो मानव जीवन नस्ट हो जाएगा इस लिए ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाओ। यह कविताएँ हमें वृक्षों की रक्षा करने के लिए प्रोत्साहन देती हैं. पेड़ हमारी हैं शान जीवन करते हैं आसान पेड़ हमारी हैं शान जीवन करते हैं आसान फल ,तेल ,दवा और न जाने क्या -क्या हैं हम पाते इनके बिना जीवन हम अपना अधूरा पाते सबसे जरुरी बात क्यूं हैं भूल जाते साँस भी इनके बिना नहीं ले पाते ऑक्सीजन की करते पूर्ति हर किसी को माननी होगी ये बात तभी कर पाओगे इसकी पूर्ति पेड़ हमारी हैं शान जीवन करते हैं आसान यह भी पढ़ें: दोस्तो अगर आपको आर्टिकल Poem on Tree in Hindi अच्छा लगा ही तो अपने दोस्तो के साथ शेयर करना ना भूले और साथ ही आपका। कोई सवाल हो तो हमे कमेंट करके जरूर बताएं अगर आपने भी पेड़ों पर कविता लिखी है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं हम आपकी कविता को इस आर्टिकल मै जरूर शामिल करेंगे Post navigation. तेरे हरियाली लाये खुशहाली तू है धरती का श्रृंगार! शीतल मधुर समीर बहाते, होते बड़े निराले वृक्ष.


Next

Trees Summary in hindi, Class 7 Poem

poem on trees in hindi

अंधाधुंध कटाई जंगल का सम्पूर्ण शहर बन गया है भठ्ठी! तेरे हीं छाँव के नीचे खेला गुल्ली-डंडा खेल हुआ बड़ा! हम ज़िन्दगी और ज़िंदादिली उगाते हैं, जब हम पेड़ लगाते हैं। ~ अज्ञात Tree Poem 2: बूढ़ा-सा इक पेड़ मेरा वाक़िफ़ है मोड़ पे देखा है वह बूढ़ा-सा इक पेड़ कभी? पेड़ हमारे पर्यावरण और मानव कल्याण के लिए अमूल्य हैं। वे हमें पीने के लिए स्वच्छ पानी, सांस लेने के लिए हवा, मनुष्यों, जानवरों को छाया और भोजन देते हैं। वे जीवों और वनस्पतियों की कई प्रजातियों के लिए आवास प्रदान करते हैं. पर्यावरण बचाना है हमको पेड़ लगाना है हमको पेड़ लगाना है. हम पानी का जहाज उगाते हैं, जो समुन्दर पार करेगा। हम मस्तूल उगाते हैं, जिस पर बँधेगी पाल। हम वे फट्टे उगाते हैं, जो करेंगे हवाओं के थपेड़ों का सामना। जहाज का तला, शहतीर और कोहनी उगाते हैं। जब हम पेड़ लगाते हैं, तो पानी का पूरा जहाज उगाते हैं। हम अपने और तुम्हारे लिए एक घर उगाते हैं। हम बल्लियाँ, पटिए और फर्श उगाते हैं। हम खिड़की, रोशनदान और दरवाज़े उगाते हैं। हम छत के लट्ठे, शहतीर और उसके तमाम हिस्से उगाते हैं। हम क्या उगाते हैं, जब हम पेड़ लगाते हैं? सूरज की किरणों में तपकर, देते छाँव हमें वर्षों।। व्यक्त नहीं कर सकता कोई, हमपर जो उपकार किया। वृक्षों ने जो कुछ भी पाया, उसे हमीं पे वार दिया।। वृक्ष कविता हिंदी में Hindi Kavita on Tree पेड़ पर हिंदी कविता वृक्ष लगाओ, वृक्ष लगाओ, वन में हरियाली लाओ, अपने जीवन को स्वच्छ बनाओ, वृक्ष लगाओ, वृक्ष लगाओ, आज संसार में मनुष्य लेता वृक्षों की जान क्या मनुष्य नहीं जानता कि इससे है सबकी शान हमारे जीवन को स्वच्छ बनाने के लिए इन्होने दिए बलिदान फिर भी यह सब भूलकर ले रहे हैं इनकी जान, ईश्वर ने इन्हे बनाया, हमारे स्वाथ्यय के लिए वरदान, हटा प्रदूषण वातावरण से देते है यह जीवन दान, वृक्ष लगाओ, वृक्ष लगाओ, जीवन में हरियाली लाओ वृक्ष लगाओ, वृक्ष लगाओ।। पेड़ों के महत्व पर कविता Poem About Tree in Hindi अंकुर मिट्टी में सोया था सपने मै खोया था नन्हा बीज हवा ने लाकर एक जगह बोया था। तभी बीज ने ली अंगड़ाई देह जरा सी पाई आंख खोलकर बाहर आया, दुनिया पड़ी दिखाई खाद्य मिली पानी भी पाया ऐसे जीवन आया ऊपर बड़ा इधर, धरती में नीचे उधर समाया। तने डालिया पत्ते आए और फल मुस्कराए नन्हा बीज वृक्ष बनकर धरती पर लहराए। जीता मरता रोगी होता दुख आने पर सोता वृक्ष सांस लेता बढ़ता है जगता है फिर सोता। रोज शाम को चिड़िया आती सारी रात बिताती बड़े सवेरे जाग वृक्ष, पर ची ची ची ची गाती। छाया आती बड़ी सुआती सब टोली झूट जाती तरह तरह के खेल वर्क्ष के नीचे बैठ रचती। पेड़ हमारे मित्र पर कविता Hindi Poem On Tree मैं हूं पेड़ मुझे मत काटो टुकड़ों-टुकड़ों में मुझे मत बांटो दर्द मुझे भी होता है… मेरा मन भी रोता है। मैं हूं मित्र तुम्हारा सका हूं सबसे न्यारा मेरे फल खुद नहीं खाता हूं… सब तुम्हें ही तो दे जाता हूं। जहरीली गैसे भी पी जाता हूं शुद्ध हवा तुम तक पहुंचाता हूं सूरज का भी ताप सहू… मैं हूं जीवन का आधार। फिर भी तुम मुझ पर करते प्रहार सुनो तुम सब कान लगाकर वृक्षों का करना सम्मान… मैं हूं जीवन का आधार। Read Also: पेड़ का दर्द कितने प्यार से किसी ने बरसों पहले मुझे बोया था हवा के मंद मंद झोंको ने लोरी गाकर सुलाया था। कितना विशाल घना वृक्ष आज मैं हो गया हूँ फल फूलो से लदा पौधे से वृक्ष हो गया हूँ। कभी कभी मन में एकाएक विचार करता हूँ आप सब मानवों से एक सवाल करता हूँ। दूसरे पेड़ों की भाँति क्या मैं भी काटा जाऊँगा अन्य वृक्षों की भाँति क्या मैं भी वीरगति पाउँगा। क्यों बेरहमी से मेरे सीने पर कुल्हाड़ी चलाते हो क्यों बर्बरता से सीने को छलनी करते हो। मैं तो तुम्हारा सुख दुःख का साथी हूँ मैं तो तुम्हारे लिए साँसों की भाँति हूँ। मैं तो तुम लोगों को देता हीं देता हूँ पर बदले में कछ नहीं लेता हूँ। प्राण वायु देकर तुम पर कितना उपकार करता हूँ फल-फूल देकर तुम्हें भोजन देता हूँ। दूषित हवा लेकर स्वच्छ हवा देता हूँ पर बदले में कुछ नहीं तुम से लेता हूँ। ना काटो मुझे ना काटो मुझे यही मेरा दर्द है। यही मेरी गुहार है। यही मेरी पुकार है। — अंजू गोयल वृक्ष पर कविता Hindi Poems on Tree धरती के श्रृंगार हैं पेड़, जीवन के आधार हैं पेड़। पेड़ हमे छाया देते हैं स्वय शीत गर्मी सहते हैं बिना मुकुट के राजा हैं ये कितने मनमोहक लगते हैं। जंगल के परिवार पेड़ हैं, पंछी के घर बार पेड़ हैं। जहाँ पेड़ हैं, शीतलता हैं शीतलता से मेघ बरसते, सूखी धरती हरियाती हैं ताल-तलैया सारे भरते। धरती के उपहार पेड़ हैं, खुशहाली के द्वार पेड़ हैं। स्वस्थ बनाते,श्रम हर लेते हमे फूल, फल मेवे देते, करते हैं सम्पन्न सभी को पर न किसी से कुछ भी लेते। करते नित उपकार पेड़ हैं, सेवा के अवतार पेड़ हैं।. हवा को शुद्ध बनाते हैं गर्मी से राहत दिलाते हैं शुभचिंतक है वृक्ष हमारे नहीं मांगते कुछ भी हमसे हमको सब उपलब्ध कराते हैं. प्रकृति का अनमोल है वृक्ष मत करो हरे पेड़ पर वार! थक हार तेरे छाँव में बैठा तेरे सारे उपकार को भूला! तुमसे बड़ा सेवक है कौन? वृक्षों के उपकार भूल कर, प्रतिदिन इनको काट रहा है. हम गिल्लियां, बल्ले, कैरम, गिटीयां और खेल का तमाम सामान उगाते हैं। हम मवेशियों के लिए भोजन, पौधों के लिए खाद उगाते हैं। चिड़ियों के घोंसले, जानवरों के कोटर उगाते हैं। और अपने जीने-मरने और रमने का सब साजो-सामान उगाते हैं। हम क्या उगाते हैं, जब हम पेड़ लगाते हैं? आज घर से लाया है कुल्हाड़ी करनी है तेरी छाती पर वार! Today, while doing this random exercise, I wrote this small poem on poems for kids of very young age, like maybe 3-4 years old. She could notice the refrain and smile at the sound of the words.

Next

11+ पेड़ पर कविता

poem on trees in hindi

जिसका तू नित्य जीवन देता वही तेरा कर. . . . . .

Next

पेड़ और पौधों पर कविताएँ

poem on trees in hindi

. . . . . . .

Next

पेड़ बचाओ कविता हिन्दी में

poem on trees in hindi

. . . . .

Next