Unity in diversity in india essay in hindi. भारत में विविधता में एकता पर निबंध 2022-10-27

Unity in diversity in india essay in hindi Rating: 8,8/10 1514 reviews

भारत एक विशाल देश है जो कई भिन्न धर्मों, भाषाओं, संस्कृतियों और जातियों से भरपूर है। हमारे देश में हजारों साल से अलग-अलग जातियों, धर्मों और संस्कृतियों के लोग एक साथ निवास कर रहे हैं। हमारा देश अलग-अलग जातियों, धर्मों और संस्कृतियों के लोगों को एक साथ जीवन जीने का स्थान है। हमारा देश एक महान उत्पत्ति है जो अलग-अलग धर्मों, भाषाओं, संस्कृतियों और जातियों को एक साथ जीने का अवसर देता है।

हमारे देश में अलग-अलग धर्मों, भाषाओं, संस्कृतियों और जातियों के लोग एक साथ निवास करते हैं, लेकिन वे सभी एक दूस

Unity in Diversity Essay

unity in diversity in india essay in hindi

हम सब यह जानते हैं कि भारत देश और भारतीय समाज प्राचीन काल से इस वजह से एक था क्योंकि यहां इस वजह से बुनियादी से रूप से भारतीय समाज हमेशा से एक था लेकिन जब बात राजनीतिक रूप से एकता की आती है तो यहाँ स्थिति बदल जाती है। हमारा देश शुरुआत से कभी भी एक ही शासक के आधीन नही रहा है। यहाँ तक ही जब भारत अंग्रेजों का गुलाम था उस वक़्त भी देश मे 600 छोटी बड़ी रियासतें थी। इसके पहले गुप्त शासन काल मे देश एक ही सल्तनत के अधीन था। इसके बाद देश की आजादी के बाद भी इस बात का ध्यान रखा गया था कि राजनीतिक स्तर पर विविधता बरकरार रहे ताकि देश वे सभी लोग आजादी महसूस कर सकें। भारतीय साहित्य में विविधता. If you liked this article, then please comment below and tell us how you liked it. ADVERTISEMENTS: भारत में विविधता में एकता पर निबंध दो निबंध Read These Two Essays on Unity in Diversity in India in Hindi. इस पर दल के सबसे युवा हाथी ने कहा- हाँ लेकिन हम जाएंगे तो भी कहा जाएंगे हमें तो कोई जगह भी नही पता। इस पर बूढ़े हाथी ने हँसते हुए कहा कि- तुम्हे नही तुम्हें नहीं पता है लेकिन हमें तो पता है ना हम बहुत सारी जगह जानते हैं जहां हम जा करके अपना पेट भर सकते हैं। इसके बाद हाथी का दल अगले दिन दूसरे जंगल मे निकल जाता है. Nepal and China are separated by the Himalayas. Hindu, muslim, sikh, christian we are all brothers; धर्म के बिना विज्ञान लंगड़ा है, विज्ञान के बिना धर्म अंधा है. Post-Independent India is a nation united against several odds and obstacles.

Next

5+ Unity Slogans In Hindi Article

unity in diversity in india essay in hindi

Unity teaches us to join together and makes strength. Hindi diwas is observed annually on the 14th of september in all the hindi speaking states of india. में खाने पीने का ढंग बदल जाता है। इतनी विविधता होने भारतीय समाज की इस विशेषता को देख कई बार बड़ी बड़ी शख्सियत हैरान होती है क्योंकि विविधता होने से यही तात्पर्य निकलता है कि कुछ कमजोरी होगी, लेकिन भारतीय समाज Essay on Unity in Diversity in Hindi 250 Words प्रस्तावना दुनियाँ की सबसे प्राचीन सभ्यताओं में इसी वजह से हमारा देश इतनी विविधता से भरा हुआ है। दुनियाँ विविधता में एकता ही है भारत की असली पहचान. List Of Sad Quotes About Life In Urdu 2022. This is the simple and short essay on Unity In Diversity which is very easy to understand it line by line. Slogans on unity in hindi अनेकता में एकता पर स्लोगन व नारा or unity is diversity slogans and quotes on upcoming national unity day or. हम भारत को यदि बाग कहें तो गलत नही होगा क्योंकि यहाँ भी उतनी ही विविधता है जितना बाग में होती है। वहाँ भी अलग अलग प्रजाति के पुष्प खिलते है लेकिन सब मिलकर वातावरण को सुगंधित करते हैं। ठीक ऐसे ही हम भारतीय हैं। Essay on importance of Unity in Diversity in Hindi 500 Words प्रस्तावना एक कहावत कही जाती है कि हाथ की पांचों उंगलियां भले ही बराबर न हो लेकिन एक उंगली यदि हटा दी जाए तो मुट्ठी नही बांध पाएंगे। यह कहावत असल मे एकता की शक्ति को दर्शाती है। एकता का महत्व बहुत ज्यादा है। खासकर भारतीय समाज मे इसका महत्व और भी अधिक बढ़ जाता है क्योंकि यहां सबसे ज्यादा विविधता है। हमारे देश का इतिहास बहुत प्राचीन है और यह बात हमारे पूर्वज जानते थे कि भारत एकता का अर्थ हम किसी दूसरे से भिन्न नही है बल्कि उसी के समान है यही भाव एकता का भाव कहलाता है। एकता का मतलब है हम एक हैं। लेकिन हमारे देश में तो इतनी विविधता हम भारतीयों के अंदर एकता का भाव किसी जाति, धर्म आदि के आधार पर नही आया है क्योंकि इस आधार पर तो हमारे देश मे बहुत ज्यादा विविधता है। एकता एकता का महत्व भारतीय समाज में अनेक लोकोक्तियाँ प्रचलित हैं जो एकता के महत्व को बताती है। जैसे कहा जाता है कि अकेला चना भाड़ नही फोड़ सकता। एक अकेला तिनका किसी काम का नही होता लेकिन जब यही मिलकर एक रस्सी बन जाता है तो बलशाली हाथी को भी काबू कर लेता है। यही एकता ही शक्ति है। विश्वविजयी सिकंदर जब पूरी दुनियाँ को जीतने इसका कारण रहा भारतीय राजाओं की एकता। आचार्य चाणक्य इस बात को भलीभांति जानते थे कि सिकंदर को हराना है तो भारत को एक होना ही पड़ेगा। एकता की शक्ति के अनेकोनेक उदाहरण मिल जाएंगे। हमारे देश को आजादी भी एकता के बल स्वार्थ है एकता का दुश्मन.

Next

Essay On Unity in Diversity in Hindi

unity in diversity in india essay in hindi

Unity in Diversity Essay in Hindi is asked in one of the most common asked essay in English. आज हम देखते हैं कि किसी देश मे रंगभेद के कारण एक दूसरे पर अत्याचार किया जा रहा है तो किसी देश मे किसी खास धर्म से नाता रखने के कारण उन्हें धर्म परिवर्तित करने के लिए मजबूर किया जा रहा और उन पर अत्याचार हो रहे हैं। लेकिन जब भारत की तरफ नजर डालते हैं तो पाते हैं कि पिछले 50 सालों में अल्पसंख्यको की संख्या बहुत तेजी से बढ़ी है। यह सिर्फ एक आंकड़ा नही है, बल्कि यह बताता है कि हमारे देश मे लोग कितना सुरक्षित है और सभी के बीच आपसी सम्मान और प्रेमभाव आज भी बरकरार है। विविधता में एकता पर स्पीच Speech on Unity in Diversity माननीय प्रधानाचार्य महोदय, सम्मानित शिक्षकगण, मेरे सहपाठी और सभी छोड़े बड़े साथियों। आज हम अपने देश की आजादी का पर्व मनाने के लिए यहाँ एकत्रित हुए हैं। यह बात तो हमसब जानते हैं कि हमें यह आजादी कितनी मुश्किलों और कुर्बानियों के बाद मिली है। लेकिन हमारी आजादी ने यह बात जरूर सिद्ध कर दिया कि एकता में शक्ति होती है और हमारा देश तो विविधता में एकता इसी वजह से भारत मे कोई भी लंबे वक्त तक राज नही कर पाया क्योंकि इधर की विविधता से सामंजस्य बैठाना बिलकुल भी आसान नही है। आजादी के बाद से हमारा देश बहुत बदला है। यह बदलाव न सिर्फ देश की सोच में दिखाई देता है बल्कि सामाजिक, राजनैतिक और सांस्कृतिक हर एक मोर्चे पर इसे महसूस किया जाता है। जब भी कोई बड़ा देश जिसमें इतनी ज्यादा विविधता Essay On Unity in Diversity in Hindi मौजूद हो वह बदलाव के दौर से गुजरता है तो यह बिलकुल भी आसान नही होता क्योंकि एकरूपता को हमेशा की विकास का सहायक और विविधता को विकास का रोधक माना जाता है। लेकिन हमारे देश मे ऐसा कुछ देखने को नही मिला। देश में बदलाव होते रहे और लोग इन बदलावों के साथ खुद को ढालते रहे। लेकिन यह सब संभव नही हो पाता यदि देश के लोगो मे एकता की भावना नही होती। भारत को त्यौहारों का देश कहा जाता है। यहाँ रहने वाले लोग अपने धर्म पर भरोसा करते हैं और दूसरे के धर्म का सम्मान करते हैं। यही वजह है कि नवरात्रि में गुजरात मे पंडाल लगता है तो उसमें मुश्लिम समुदाय के लोग न सिर्फ मदद करते हैं साथ मे गरबा देखने भी आते हैं। कृष्ण की नगरी में जब कृष्णजन्माष्टमी मनाई जाती है और वहाँ मटकी फोड़ने का आयोजन किया जाता है तो तो उसमें मुश्लिम भी शामिल होते हैं। देश की विविधता Essay On Unity in Diversity in Hindi में एकता के अनेकों उदाहरण हमको देखने को मिल ही जाते हैं। हमारे देश मे जहाँ 150 से ज्यादा भाषाएँ और 3000 से भी ज्यादा बोलियाँ हैं, जो देश 29 राज्यों में बंटा हुआ है और हर राज्य की सांस्कृतिक विरासत अलग अलग है वह देश इतनी विविधता के बावजूद भी विश्व मे मजबूती से खड़ा है। लोग हैरान होते हैं हमें देखकर की हम इतने अलग होने के बाद भी कैसे एक दूसरे के साथ रह लेते हैं। विदेशी पर्यटकों के मन की यही कौतूहल उन्हें भारत खींचकर लाती है। भारत हमेशा से ही विविधता Essay On Unity in Diversity in Hindi को मानता रहा है और इसे स्वीकार करता आया है। हममें से बहुत सारे लोग इस बात को नही जानते कि अरब देशों के बाद दुनियाँ के जिस देश मे पहली मस्जिद बनी थी वह देश भारत ही है। इसका निर्माण 629 ईसवी में हुआ था। उस वक़्त तो हमारे देश मे इस्लाम की शुरुआत भी नही हुई थी फिर भी हमारे देश के राजा ने इस्लामिक इबादतगाह बनाने की अनुमति सिर्फ इस वजह से दी थी क्योंकि एकता और सभी धर्मों के लिए सम्मान का भाव हमारे समाज के बुनियाद में है और यह अभी भी झलकता है। इस देश को लोगो को कोई अनुशासन नही सिखाता लेकिन फिर भी सब अनुशाषित रहते है क्योंकि यह भी हमारी सभ्यता का हिस्सा है। विविधता में एकता Essay On Unity in Diversity in Hindi का भाव जबतक हमारे देशवासियों में रहेगा तब तक इस देश का कोई बाल भी बांका नही कर सकता। हमारे देश के युवाओं को भी यह बात भलीभांति समझना होगा कि सहअस्तित्व और परस्पर सहयोग से ही इस देश के विकास की कुंजी है क्योंकि यदि विविधता ही देश के विकास में गतिरोध उत्पन्न करने लगेगी तो फिर उस गरीरोध को कोई दूर नही कर सकेगा। इसलिए यह जरूरी है कि हम सभी धर्मों, जाति और लोगो का सम्मान करें। धन्यवाद. All religions have their sects and sub-divisions. We Are Only As Strong As We Are United. Sab padhe, aur aage badhe! Now learn essay on unity in diversity 250 words for classes 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 and 12.

Next

[ 600 शब्द ] Essay on Unity In Diversity in Hindi ( Short and Simple )

unity in diversity in india essay in hindi

Unity in diversity is a very important principle because we all live in a diverse world. Essay writing requires a detailed understanding of the topic concerned and wide knowledge of current affairs. हमारे बीच आपसी लड़ाई क्यों नही होती? Incline thine ear unto my sayings. Slogans on unity in hindi अनेकता में एकता पर स्लोगन व नारा or unity is diversity slogans and quotes on upcoming national unity day or. Essay On Unity in Diversity in Hindi: अनेकता में एकता यही है यही है भारत की विशेषता. भारतीय संस्कृति की धारा अविच्छिन्न रही है । II. Its unity and diversity characterize it.

Next

विविधता में एकता निबंध

unity in diversity in india essay in hindi

This Long essay on Unity In Diversity is generally useful for class 5, class 6, and class 7, class 8, 9, 10. Here are 149 bible verses about healing from the old and new testaments of the holy bible, king james version, sorted from the most relevant to the least relevant. Students can also practise Unity in Diversity in Indian Society India is a land of unity in diversity. लेकिन उनके लिए बस यही कह सकते हैं कि विविधता तो दुनियाँ के लिए है बाकी दिल से हम सब पहले भारतीय है उसके बाद किसी धर्म से जुड़े हुए लोग। अब मैं अपने शब्दों को इन दो पंक्तियों अनेकता में एकता, यही तो है भारत की विशेषता. The idea of the unity of India is inherent in all historical and socio-cultural facts as well as in cultural heritage. एकता एक भाव है जिसका जन्म किसी के अंदर तब होता है जब उसे इस बात का ज्ञान होता है कि दूसरा भी उसी की भांति है, उससे भिन्न नही है। स्थूल स्तर Short Essay on Unity in Diversity in Hindi 100 words हमारा देश एक विशाल देश माना जाता है, जहाँ करीब 130 करोड़ लोग प्रेमभाव के साथ रहते हैं। भारत दुनियाँ का एक मात्र ऐसा देश है जहाँ हर धर्म, पंथ, विचारधारा और संप्रदाय को मानने वाले लोग रहते हैं। सभी लोगो के रस्म-रिवाज, पहनावा और बोली भाषा अलग होती है लेकिन फिर भी किसी के अंदर दूसरे के प्रति वैमनस्य इसी वजह भारत एक ऐसा देश है जहाँ हर 100 किलोमीटर में बोली बदल जाती है, 400 किमी. भारतीय समाज की सबसे खास बात विविधता में एकता है जिसकी तारीफ दुनियाँ भर के लोग करते हैं। दुनियाँ के तमाम देशों से लोग भारत की ऐसी विविधता को देखने के लिए खिंचे चले आते हैं। भारत की इस विविधता की चर्चा सभी जगह होती है और भारतीय समाज की तारीफ इसी विविधता के कारण होती है। विविधता में एकता यह भी दर्शाती है कि भारतीय सामाजिक व्यवस्था कितनी मजबूत है और लोकतांत्रिक नियम यहाँ हजारों साल से यहाँ मौजूद है। विविधता में एकता कोई नई परिकल्पना नही है और यह सिर्फ भारत मे ही लागू नही है, बल्कि दुनियाँ के कई देशों में अनेकता में एकता को आधार बनाकर कई बड़े जनांदोलन हो चुके हैं। लेकिन भारत की विविधता की चर्चा हमेशा होती है, क्योंकि इतनी बड़ी आबादी में विविधता के बीच एकता होना एक बड़ी बात है। भारत की भौंगोलिक विविधता.

Next

अनेकता में एकता : भारत की विशेषता

unity in diversity in india essay in hindi

Essay 1: भारत में विविधता में एकता पर निबंध Unity in Diversity in India! The sources of diversity in India may be traced in a variety of ways. Today, we are sharing Simple essay on Long essay on Unity In Diversity in Hindi. भारत में बहुत ज्यादा भौंगोलिक विविधता है। भारत की स्थिति जब देखते हैं तो पता चलता है इसे हम कई अलग अलग भागों में विभाजित कर भारत के उत्तर इन सब भौंगोलिक इकाइयों का तापमान, वातावरण सब कुछ अलग अलग होता है, इसी वजह से यहाँ उगने वाली फसलें, सब्जियाँ, लोगो का रहन, सहन आदि एक दूसरे क्षेत्रों से बहुत हटकर है। भारत की भौंगोलिक स्थिति कई प्राचीन लेखों में भी इसका वर्णन मिलता है और भारत की सीमा को उत्तर के हिमालय से दक्षिण के महासागर तक बताया गया है। भारत मे कई सल्तनतें रही हैं, कई विदेशी आक्रमणकारियों ने हमला किया है लेकिन अपनी भौंगोलिक विविधता के कारण कभी भी कोई शासक पूरे भारत भारत की धार्मिक विविधता. Humanity quotes in hindi with images. Read Unity in Diversity Essay in Hindi. भारत के अलग अलग क्षेत्रों ने साहित्य के लिए भी बहुत योगदान दिया है। जैसे वेदों का निर्माण उत्तर-पश्चिम क्षेत्र में, यजुर्वेद का निर्माण कुरु पांचाल क्षेत्र में, उपनिषद की रचना मगध में, गीत गोविंद की रचना बंगाल में चार्यपदास उड़ीसा में, कालिदास के महाकाव्य और ड्रामा की रचना उज्जैनी में हुआ था। इसके अलावा भी भारत मे कई किताबों की रचना हुई थी, जिनमे ज्ञान-विज्ञान, कला, स्वास्थ्य आदि के बारे में जानकारी दी गई थी। इस तरह की कई किताबों को नालंदा के पुस्तकालय में इकट्ठा करके रखा गया था। भारतीय संगीत में विविधता. We hope this essay on Unity in Diversity must have helped students in improving their writing section.

Next

Unity in Diversity Essay in Hindi विविधता में एकता पर निबंध

unity in diversity in india essay in hindi

The distinction here correlates to the foundation of. Having a good vocabulary will be an added advantage. आइये अब हम आपको slogan writing on rashtriya ekta diwas, national unity day drawing, राष्ट्रीय एकता दिवस श्लोगान इन हिंदी, national integration day. यह जड़ अथवा स्थिर नहीं, बल्कि सचेतन और गतिशील है । इसने समय-काल के अनुरूप अपना कलेवर आत्मा नहीं बदला ही नहीं, वरन् उसे अति ग्रहणशील बनाया है । V. Unity in diversity promotes brotherhood, peace and harmony.

Next

भारत में विविधता में एकता पर निबंध

unity in diversity in india essay in hindi

However, in India, we have learned to live in diversity, and our geographical features further solidify this bond. आज हम सब इस मंच हमारे देश का इतिहास हजारों वर्ष पुराना है। इतने लंबे काल मे कई अलग अलग धर्म को मानने वाले लोग भारत मे शरण लेने आए और यही के होकर रह गए। लेकिन इस देश की महानता देखिए कि किसी को यह एहसास नही कराया जाता है कि वो यहाँ के मूल निवासी नही है। जबकि दुनियाँ भारत देश में जितनी विविधता है उतना किसी देश में नही है, और अगर होती भी तो पता नही वो किस भांति अपने देश को संभालते लेकिन थोड़ी सी विविधता भी कई देशों को सहन नही है। दुनियाँ के अधिकतर देश एकरूपता के आधार यहाँ हिन्दू, मुश्लिम, सिख, ईसाई, जैन, पारसी, सिंधी, बौद्ध जैसे तमाम धर्मों का अनुसरण करने वाले लोग रहते हैं, जिनका, खानपान, पहनावा, मान्यता, त्यौहार, बोली भाषा सब कुछ अलग है लेकिन फिर भी सब एक है। सबकी पहचान भारतीय है और भारतीय होने पर सबको गर्व है। सभी लोग यहाँ मिलजुल कर रहते हैं। एक दूसरे के त्योहारों में शामिल होते हैं और खुशी खुशी सब एक दूसरे को बधाई देते हैं। सच कहें तो ऐसा दृश्य सिर्फ भारत मे ही देखने को मिल सकता है और दूसरे किसी देश मे नही। उत्तर भारत में जहाँ हिंदी भाषा बोली जाती है वही महाराष्ट्र में मराठी, केरल में मलयालम, तमिलनाडु में तमिल आंध्रप्रदेश में तेलुगु, उड़ीसा में उड़िया और पश्चिम बंगाल बंगला भाषा बोली जाती है। भाषा मे इतनी ज्यादा विविधता Essay On Unity in Diversity in Hindi किसी दूसरे देश मे नही देखी जाती। भाषाई विविधता होने के बावजूद भी उत्तर भारत के लोग दक्षिण भारत मे काम करते हैं और दक्षिण भारत के लोग उत्तर भारत मे काम करते हैं। हमारे देश मे सिर्फ भाषाई विविधता ही नही है बल्कि पहनावे वही पंजाबी औरतें सलवार कुर्ता, पंजाबी शूट, शरारा पहनना ज्यादा पसंद करती है जबकि हरियाणा में महिलाएं चुनरी और दामन कुर्ता ज्यादा पहनती हैं। इतनी विविधताओं के बावजूद भी हमारा देश एक है, देश के लोग एक है, लोगो की भावना एक है और सभी भारत को अपनी मातृभूमि मानते हैं। इतनी विविधता से भरा हमारा देश भारत आज दुनियाँ का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। दुनियाँ भर के कई बड़े बड़े सोसलिस्ट हमारे देश और समाज के ऊपर अध्ययन कर रहे हैं और जानना चाहते हैं कि आखिर हमारे देश मे इतनी विविधता है फिर भी सब लोग मिलजुल कर कैसे रह रहे हैं? Top 10 stoic quotes waste no more time arguing what a good man should be. The Great Plains, which is between the Himalayan ranges on the one hand and Peninsular India on the other has a unifying role. Unity always benefits, lives together in unity. When depression comes into the hard. एकता एक भाव एकता Essay On Unity in Diversity in Hindi का सबसे बड़ा शत्रु स्वार्थ है। जहाँ स्वार्थ की भावना है वहाँ एकता का भाव नही हो सकता,क्योंकि जहाँ एकता है वहाँ कोई अपना हित बस नही देखता बल्कि सबके भलाई का विचार रखता है। यह बात हम सब जानते हैं कि भारतीय समाज मे बहुत विविधता है, और यह हजारों सालों से बनी हुई है। लेकिन कुछ लोग अपनी स्वार्थसिद्धि लोगो की अंदर इस विविधता को आधार बनाकर गलत भाव डाले जा रहे हैं, जिसका असर कही न कही हमारे समाज मे दिखाई देने लगा है। निष्कर्ष. जिस प्रकार एक चींटी कुछ नही कर सकती जबकि चींटियों का एक झुंड मिट्टी का घर बना देती है ठीक उसी तरह समाज एक है तो बहुत कुछ किया जा सकता है। जब अंग्रेज भारत आए थे तो उन्होंने फुट डालो और शासन करो कि नीति अपनाई थी क्योंकि उन्हें पता था कि भारत एक विशाल देश है और जब तक यहाँ शासक और प्रजा एक रहेंगे तब तक राज करना संभव नही है। अनेकता में एकता पर भाषण Speech of Unity in Diversity in Hindi आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, सभी शिक्षकगण और मेरे प्यारे सहपाठियों.

Next