Paragraph on rabindranath tagore in hindi. रविन्द्रनाथ टैगोर पर अनुच्छेद 2022-10-31

Paragraph on rabindranath tagore in hindi Rating: 5,4/10 1869 reviews

रबीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore) भारत के एक महान साहित्यिक और संस्कृतिकार थे। वे 1861 में बंगाल के कोलकाता में पैदा हुए थे। वे संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी और बैंगलोरी भाषाओं में लेखन करते थे। उनकी साहित्यिक यात्रा शुरू होते ही सफल हुई थी और वे अपने समय के सबसे महान साहित्यिकों में से एक थे।

टैगोर के जीवन में अनेक महत्वपूर्ण कार्य हुए। उन्होंने अपनी स्कूल सिस्टम को बदलकर भारतीय स्कूलों में नयी व्यवस्था लागू की जो अब तक चल रही है। वे भारत में स्वतंत्रता सेनानियों के साथ संगठित हुए और अपने साहित्य के मा

Hindi Essay on “Rabindranath Tagore”, “रविंद्रनाथ टैगोर”, Hindi Nibandh for Class 5, 6, 7, 8, 9 and Class 10 Students, Board Examinations.

paragraph on rabindranath tagore in hindi

रविंद्रनाथ टैगोर ने महाकवि कालिदास की कविताओं को पढ़कर ही प्रेरणा ली थी. इनके पिता ब्रह्म समाज के एक वरिष्ठ नेता और सादा जीवन जीने वाले व्यक्तित्व थे. अभिगमन तिथि 2 दिसंबर 2017. रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म कोलकाता में हुआ था । 3. रबिन्द्रनाथ टैगोर ने अंग्रेजी शिक्षा प्रणाली का भी पुरजोर विरोध किया.

Next

रवीन्द्रनाथ टागोर जीवनी

paragraph on rabindranath tagore in hindi

वर्ष 1871 में रविंद्र नाथ टैगोर के पिता ने इनका एडमिशन लंदन के कानून महाविद्यालय में करवाया. रवींद्र नाथ टैगोर एक महान कवि साहित्यकार,शिक्षाविद और नाटककार थे । 2. जन्म एवं शिक्षा-दीक्षा: रवीन्द्रनाथ टैगोर का जन्म 7 मई सन् 1861 को कोलकत्ता में एक ठाकुर परिवार में हुआ था । उनके पिता महर्षि देवेन्द्रनाथ ठाकुर देश के एक सम्मानित धार्मिक एवं सामाजिक सेवाभावी व्यक्तित्व थे । रवि बाबू अपने 14 भाई-बहिनों में से सबसे छोटे थे । उनको सर्वप्रथम ओरियन्टल सेमेनरी स्कूल में भरती कराया गया, परन्तु उनका वहां मन न लगा । उनकी प्रारम्भिक शिक्षा घर पर ही सम्पन्न हुई । उन्हें संस्कृत, बंगला, अंग्रेजी, चित्रकला, संगीत आदि की शिक्षा देने घर पर ही अलग-अलग अध्यापक नियुक्त किये गये थे । सन् 1878 में उच्च शिक्षा हेतु अपने भाई के साथ इंग्लैण्ड गये । वहां उनको ब्राइटन स्कूल में दाखिला दिया, परन्तु टैगोर का मन यहां भी नहीं लगा । सन् 1880 में वे स्वदेश लौटे । पुन: 1881 में कानून की शिक्षा प्राप्त करने इंग्लैण्ड गये । फिर वहां मन न लगने के कारण वे स्वदेश लौट आये । सन् 1901 में टैगोर ने बोलपुर के समीप शान्ति निकेतन की स्थापना की । उन्होंने इसमें स्वयं अध्यापक के रूप में कार्य किया । यह विद्यालय उदारता एवं विभिन्न संस्कृतियों का संगम स्थल था । आज भी इसे विश्व की अद्वितीय शैक्षिक संस्था के रूप में जाना जाता है । वर्तमान में इसे विश्वभारती विश्वविद्यालय के रूप में पहचाना जाता है । 3. काबुलीवाला, मास्टर साहब और भी ऐसी बहुत सारी उनकी लोकप्रिय कहानियां है । 10. और उन्होंने सिख धर्म पर कई कविताएं और लेखों को लिखा. अमृतसर के प्रवास के दौरान उन्होंने सिख धर्म को बहुत ही गहराई से अध्ययन किया. उनके पिता का नाम देवेंद्र नाथ टैगोर था.

Next

Short essay on Rabindranath Tagore in Hindi रबीन्द्रनाथ टैगोर पर निबंध

paragraph on rabindranath tagore in hindi

बिंदु Points जानकारी Information नाम Name रवींन्द्रनाथ टैगोर पिता का नाम Father name देवेंद्र नाथ टैगोर माता का नाम Mother name शारदा देवी जन्म Birth 7 मई 1861 जन्म स्थान Birth Place कोलकाता शिक्षा Education लन्दन लॉ कॉलेज कार्यक्षेत्र Profession कवि पुरस्कार Awards नोबेल पुरस्कार 1913 मुख्य योगदान Major Work राष्ट्रगान के रचियता रविंद्र नाथ टैगोर जन्म और प्रारंभिक शिक्षा Rabindranath Tagore Birth and Initial Life रवीना टैगोर का जन्म 7 मई 1861 में कोलकाता के जोड़ासाँको की हवेली में हुआ था. This article can help the students who are looking for information about class 1, class 2, and class 3. अभिगमन तिथि १२ अप्रैल २०१६. उनका मानना था कि विद्यार्थियों को प्राकृतिक माहौल में हीं पढ़ाई करनी चाहिए. Article shared by : रवीन्द्रनाथ टैगोर पर अनुच्छेद Paragraph on Rabindranath Tagore in Hindi Language. हिंदी में रवींद्रनाथ टैगोर जी पर 10 लाइनें, Short 10 lines essay on Rabindranath Tagore in Hindi.

Next

Rabindranath Tagore Short Biography in Hindi

paragraph on rabindranath tagore in hindi

प्रस्तावना : विश्वविख्यात साहित्यकार, चित्रकार, पत्रकार, अध्यापक, तत्वज्ञानी, संगीतज्ञ, दार्शनिक, शिक्षाशास्त्री रवीन्द्रनाथ टैगोर हमारे देश के ऐसे गौरवशाली व्यक्तित्व हैं, जिन्हें नोबल पुरस्कार के प्रथम भारतीय होने का गौरव प्राप्त है । जिन्हें उनकी कृति गीतांजलि पर सन् 1913 को साहित्य का नोबल पुरस्कार मिला । उनकी यह कृति धर्म, दर्शन एवं विश्व मानवता के अनूठे सन्देश से अनुप्रमाणित है । राष्ट्रगान जन-गण-मन के रचयिता टैगोरजी एक महान् देशभक्त भी थे । बंगाल में नवजागृति लाने में उनका अनुपम योगदान रहा । प्रकृति प्रेमी, महान् नाटककार, कहानीकार, अभिनेता, रवीन्द्रनाथ भारत के उन महान् सपूतों में से एक हैं, जिन्होंने अपने देश का नाम विश्व में भी अमर कर दिया । 2. We hope you have got some learning on the above subject. इस पर अंग्रेजी अख़बारों ने टैगोर की बहुत निंदा की. रवींद्रनाथ टैगोर जी ने हमेशा अपने लेख के द्वारा लोगों के बीच प्यार और शान्ति प्रदर्शित की है। जरूर पढ़े- 10 Lines on Mahatma Gandhi in Hindi 10 lines on Swami Vivekananda in Hindi 10 lines on Rabindranath Tagore in Hindi रबीन्द्रनाथ टैगोर पर 10 लाइन निबंध 1. वे एक धर्म परायण महिला थी.

Next

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Ravindra Nath Tagore”, “रवींद्रनाथ टैगोर” Complete Essay for Class 9, 10, 12 Students.

paragraph on rabindranath tagore in hindi

उन्होंने भारतीय राष्ट्रवादियों का भी समर्थन किया और सार्वजनिक साम्राज्यवाद की सार्वजनिक आलोचना की. राजनीतिक दृष्टिकोण Rabindranath Tagore Political View रबिन्द्रनाथ टैगोर ने अपने गीतों के माध्यम से ब्रिटिश प्रशासन को आजादी के लिए नतमस्तक किया. आज भी रविन्द्रनाथ टैगोर को उनके काव्य गीतों और साहित्य रचना के लिए जाना जाता है. इनकी माता का नाम शारदा देवी था. वर्ष 1915 में जलियांवाला बाग हत्याकांड के विरोध में उन्हें प्राप्त नाइट की पदवी को वापस कर दिया था. उनके कुछ साहित्यिक कार्यों का उल्लेख नीचे दिया गया है: रविंद्रनाथ टैगोर ने बाल्यकाल से ही लेखन का कार्य प्रारंभ केर दिया था.

Next

रविन्द्रनाथ टैगोर पर अनुच्छेद

paragraph on rabindranath tagore in hindi

वे अपने समय की उन महान शख्सियत में से है जिन्होंने साहित्य के क्षेत्र में अभूतपूर्व योगदान दिया. रबिन्द्रनाथ टैगोर की प्रमुख रचनाये Rabindranath Tagore Literary Works रविंद्रनाथ टैगोर ने कई कविताओं, उपन्यासों और लघु कथाएं लिखीं. We help the students to do their homework in an effective way. रवींद्रनाथ टैगोर जी बहुत ही सादा जीवन जीना पसंद करते थे। 7. वे राष्ट्रीय गान के रचनाकार और साहित्य के नोबेल पुरस्कार विजेता भी थे. अपनी साहित्यिक परिभाषा के कारण ही उन्हें अल्बर्ट आइंस्टीन जैसे वैज्ञानिकों के साथ उनकी बैठक विज्ञान और आध्यात्मिकता के बीच संघर्ष के रूप में जानी जाती है.

Next

रबीन्द्रनाथ ठाकुर

paragraph on rabindranath tagore in hindi

This website includes study notes, research papers, essays, articles and other allied information submitted by visitors like YOU. इसे भी पढ़े :. इस दौरान रवीना टैगोर ने विभिन्न राज्यों की सांस्कृतिक और साहित्यिक ज्ञान को जमा किया. Before publishing your Articles on this site, please read the following pages: 1. अभिगमन तिथि 2 दिसंबर 2017. रवींद्रनाथ टैगोर जी एक महान कवि होने के साथ साथ एक देशभक्त भी थे। 10. और पुलिस की काली सूचि में इसका नाम डाल दिया गया.

Next

रबीन्द्रनाथ टैगोर की जीवनी,

paragraph on rabindranath tagore in hindi

रवींन्द्रनाथ टैगोर मृत्यु Rabindranath Tagore Death रवीन्द्रनाथ टैगोर का निधन 7 अगस्त 1941 को कोलकत्ता में हुआ. वर्ष 1873 में रबिन्द्रनाथ टैगोर ने अपने पिता के साथ देश के विभिन्न राज्यों का दौरा किया. बचपन में ही टैगोर की माता जी का निधन हो गया था. Woman in the novels of Shashi Deshpande: a study प्रथम संस्करण. नई दिल्ली: सरूप एण्ड सन्स.

Next

10 lines on Rabindranath Tagore in Hindi

paragraph on rabindranath tagore in hindi

You can also visit my YouTube channel that is You can also follow us on Facebook. श्रीलंका के राष्ट्रीय गान का भी रविन्द्रनाथ टैगोर की कलम से सृजन हुआ है. उनके साहित्य आध्यात्मिक और मर्यादा पूर्ण रूप से अपने कार्यों को प्रस्तुत करते थे. रविंद्र नाथ टैगोर ने 8 वर्ष की उम्र में ही कविता लिखने का कार्य शुरू कर दिया था और 16 वर्ष की उम्र में उन्होंने भानु सिन्हा के छद्म नाम के तहत कविताओं का प्रकाशन भी शुरू कर दिया था. जिसकी वजह से उनका पालन पोषण नौकरों द्वारा ही किया गया. रविन्द्रनाथ टैगोर ने अपने साहित्यिक परिश्रम से दुनिया के सभी हिस्सों में अपनी विचारधारा को फैलाने का कार्य किया.

Next