Mohammad ghaznavi history in hindi. Mahmud Ghaznavi in Hindi : महमूद गजनवी का भारत पर 17 बार आक्रमण 2022-10-31

Mohammad ghaznavi history in hindi Rating: 6,6/10 734 reviews

मोहम्मद ग़ज़नवी एक महत्वपूर्ण इतिहासी व्यक्तित्व हैं, जो की समय के अनुसार हज़रत मौसूमदनियों से एक अधिकांश हिस्सा होते थे। वे समय के अनुसार हिंदुस्तान में स्थित ग़ज़नवी साम्राज्य के शासक थे, जो की संस्कृति, साहित्य, विज्ञान और राजनीति में एक महत्वपूर्ण योगदान देने वाले व्यक्तित्व थे।

मोहम्मद ग़ज़नवी का जन्म 971 ईसा पूर्व में हुआ था, और वे अपने जीवन में बहुत से जटिल समयों में हुए बड़े सफलताओं का सामना करने वाले व्यक्तित्व थे। उन्होंने संस्कृति और साहित्य में अपना एक अहम योगदान दिया

Mahmud Ghaznavi in Hindi

mohammad ghaznavi history in hindi

उसके बाद, उसने 1011 ईस्वी में थानेश्वर पर हमला किया और मेरठ, कन्नौज और मथुरा में भारी लूट मचाई तत्पश्चात वह बड़ी धनराशि के साथ अपने राज्य में वापस आ गया. These all made him the Hero for the Muslims of South Asia. थानेश्वर राजाराम दसवा 1014 ई. सोमनाथ के मंदिर पर भीमदेव सतरहवा 1026 ई. वैहिद पेशावर हिंदूशाही राजा के आनंदपाल सातवा 1009 ई.

Next

Mahmud Ghaznavi (971 to 1030 AD)

mohammad ghaznavi history in hindi

अपने अंतिम आक्रमण के दौरान मलेरिया के कारण 1030 ईसवी में उसका निधन हो गया. A number of soldiers in his army were also Hindus. Mahmud was also a deeply religious man. Mahmud of Ghazni History in Hindi महमूद गजनवी का इतिहास महमूद गजनवी Mahmud of Ghazni , गजनी सामराज्य का सबसे शक्तिशाली शासक था जिसने तत्कालीन भारत उपमहाद्वीप में आने वाले उत्तर पश्चिम इलाके वर्तमान अफगानिस्तान और पाकिस्तान पर अपनी मौत तक शासन किया था महमूद ने भारत में आकर जमकर पैसा लुटा और अपने साम्राज्य को धनी बनाया था महमूद गजनवी Mahmud of Ghazni पहला शासक था जिसे सुल्तान की उपाधि दी गयी थी अपने शासन के दौरान उसने हिंदुस्तान के कई हिस्सों पर आक्रमण किया और लूटपाट मचाई थी महमूद गजनवी का प्रारम्भिक जीवन Early Life of Mahmud of Ghazni महमूद गजनवी Mahmud of Ghazni का जन्म वर्तमान दक्षिणपूर्व अफगानिस्तान के गजना जिले में 02 नवम्बर 971 ईस्वी में हुआ था उसके पिता सबुक्तगिन एक तुर्की मामलुक था जिसने गजनी साम्राज्य की नींव रखी थी उसकी माँ एक ज़बुलिस्तान के एक कुलीन परिवार की बेटी थी 994 ईस्वी से वो अपने पिता के साथ युद्ध अभियानों में लग गया था और 998 ईस्वी ने गजनी का युद्ध जीतकर अपने पिता की सत्ता सम्भाल ली वहा से वो कांधार के हिस्से को हराने को जीतने के लिए आगे बढ़ा भारत में शुरू की अपने विजय अभियानों की शुरुवात महमूद गजनवी Mahmud of Ghazni ने अपने विजय अभियानों की शुरुवात भारत में उस दौर में की थी जब राजपूत शकित क्षीण हो रही थी महमूद गजनवी Mahmud of Ghazni के भारत पर आक्रमण करने के दो मुख्य कारण थे पहला कर्ण था उसे भारत में छिपी हुयी अपार धन सम्पदा के बारे में पता चला गया था और दूसरा वो इस्लाम को भारत में फैलाना चाहता था इसके अलावा वो लुटे हुयी धन सम्पदा से अपनी राजधानी गजनी को मध्य एशिया का सबसे शक्तिशाली प्रदेश बनाना चाहता था महमूद गजनवी Mahmud of Ghazni ने अब उत्तरी भारत में अपने विजय अभियानों की शुरुवात सन 1000ईस्वी से की महमूद गजनवी ने अपनी मौत तक भारत पर 17 बार आक्रमण किया था उसके विजय अभियानों में उसका रास्ता राजा जयपाल और उसके पुत्र ने रोका था जिसे उसने पराजित कर दिया था 1009 ईस्वी से लेकर 1026 ईस्वी तक महमूद गजनवी ने काबुल , कन्नौज ,मथुरा ,कांगड़ा ,थानेश्वर ,कश्मीर ,ग्वालियर ,मालवा , बुंदेलखंड , बंगाल और पंजाब के इलाको पर आक्रमण किया था भारत पर किया 17 बार आक्रमण महमूद गजनवी Mahmud of Ghazni ने अपने जीवन में कभी भी शिकस्त नही खाई थी ऐसा कहा जाता है कि वो हमेशा भारत पर गर्मी के दिनों में आक्रमण करता था और मानसून शुरू होने के साथ वापस गजनी लौट जाता था इसका प्रमुख कारण था कि वो पंजाब की बहती नदियों से बचना चाहता था और उसे डर था कि उसकी सेना उन नदियों से अटक न जाए उसके इस 17 आक्रमणों में उसने कई साम्राज्यों को नस्तेनाबुद कर दिया था आइये उसके सभी आक्रमणों पर नजर डालते है आक्रमण आक्रमण वर्ष आक्रमण प्रदेश आक्रमण वाले प्रदेश के शासक पहला 1000 ई. Aur snbhav hai kee inhee kaaraṇaon kee vajah se vah bhaarat par baar baar aakramaṇa karataa rahaa. He also exposed the weakness of Hindu rajas, which enabled the Muslim leaders to conquer India in future.

Next

मोहम्मद गौरी की मृत्यु कैसे हुई , पृथ्वीराज चौहान ने मोहम्मद गौरी को कैसे मारा

mohammad ghaznavi history in hindi

Mahmood of Ghazna became the sign of respect and bravery for South Asian Muslim and is considered as their Hero. Mahmood Gaznavi was born in 971AD, in khurasan. फ़िरदौसी महमूद के दरबार में राज कवि था. में हुआ था। इस अभियान में उसने बारी, बुंदेलखण्ड, किरात तथा लोहकोट आदि को जीत लिया। चौदहवाँ आक्रमण 1021 ई. में हुआ। उसने पंजाब को अपने राज्य में मिला लिया था। और लाहौर का नाम बदलकर महमूदपुर कर दिया था। महमूद के इन आक्रमणों से भारत के राजवंश दुर्बल हो गए और बाद के वर्षों में मुस्लिम आक्रमणों के लिए यहां का द्वार खुल गया। मृत्यु अपने अंतिम काल में महमूद गज़नवी असाध्य रोगों से पीड़ित होकर असह्य कष्ट पाता रहा था। अपने दुष्कर्मों को याद कर उसे घोर मानसिक क्लेश था। वह शारीरिक एवं मानसिक कष्टों से ग्रसित था। उसकी मृत्यु सं. In 994 Mahmood joined his father in the conquest of Ghazni for Samanid ruler, it was the time of instability for Samanid Empire.

Next

महमूद ग़ज़नवी का इतिहास

mohammad ghaznavi history in hindi

Usane moortibhnjak upanaam ko arjit karane ke lie somanaath, kaangadaa, mathuraa aur jvaalaamukhee ke mndiron ko naṣṭ kiyaa. He himself wrote a book on Fiqh. The main objective of his attacks was to plunder the wealth of Ghaznavi. Mahmood of Ghazna was one of the undefeatable military commanders of the World. Usane bhaarat par aakramaṇa kiyaa aur raajapoot shaasak aanndapaal aur usake chhah raajapoot sahayogiyon ujjain, gvaaliyar, dillee, kaalinjar, ajamer aur kannauj, jinhen raajapoot mahaasngh ke roop men jaanaa jaataa hai ko paraajit kiyaa.

Next

Mahmud of Ghazni History in Hindi

mohammad ghaznavi history in hindi

उसके भारत पर आक्रमण का प्रमुख कारण भारत की विशाल धन-सम्पदा थी. मुल्तान सुखपाल नवा 1013-1014 ई. Firdosi the poet, Behqi the historian and Al-Biruni the scholar and scientest were associated with his court. Phairadausee mahamood ke darabaar men raaj kavi thaa. Mahmud Ghaznavi died on April 30, 1030AD. त्रिलोचनपाल अंतिम शाही राजा जिसे महमूद के द्वारा अजमेर को पलायन करने के लिए मजबूर किया गया था. He was the son of Subuktgeen.

Next

Mahmud Of Ghazni History In Hindi

mohammad ghaznavi history in hindi

भारत पर गजनवी के आक्रमण का प्रभाव भारत पर उसके आक्रमण का कोई गहरा राजनीतिक प्रभाव नहीं है. Ghazni and Lahore become the center of learning and culture. उसने भारत पर आक्रमण किया और राजपूत शासक आनंदपाल और उसके छह राजपूत सहयोगियों उज्जैन, ग्वालियर, दिल्ली, कालिंजर, अजमेर और कन्नौज, जिन्हें राजपूत महासंघ के रूप में जाना जाता है को पराजित किया. He attacked South Asia seventeen times successfully and went back to Ghazni every time with a great victory. में उसने पुनः कन्नौज पर आक्रमण किया। वहाँ के शासक राज्यपाल ने बिना युद्ध किए ही आत्मसमर्पण कर दिया। राज्यपाल द्धारा इस आत्मसमर्पण से कालिंजर का चंदेल शासक क्रोधित हो गया। उसने ग्वालियर के शासक के साथ संधि कर कन्नौज पर आक्रमण कर दिया और राज्यपाल को मार डाला। तेरहवाँ आक्रमण 1020 ई. Mahmud Of Ghazni महमूद गज़नवी — Mahmud Of Ghazni History in Hindi पूरा नाम Name महमूद गज़नवी जन्म Birthday 2 Oct 971 जन्मस्थान Birthplace ग़ज़नी, अफगानिस्तान पिता Father Name सुलतान सुबुक तिगिन महमूद गज़नवी ये मध्य आशिया का गझनी इस छोटे राज्य का तुर्की सुलतान था। इ. उसने प्रत्येक वर्ष भारत के अन्य हिस्सों पर आक्रमण करने की प्रतिज्ञा की। महमूद गजनवी ने भारत पर पहला आक्रमण 1001 ई.

Next

महमूद ग़ज़नवी का इतिहास, जानकारी

mohammad ghaznavi history in hindi

इन तथ्यों ने उसे भारत की तरफ आकर्षित करने को मजबूर किया. किंवदंतियों के अनुसार सोमनाथ के शिवलिंग के भग्नावशेषों को ले जाकर उसने ग़ज़नी के जामा मस्जिद का हिस्सा बनवाया. में महमूद ग़ज़नवी ने मुल्तान के शासक दाऊद के विरुद्ध मार्च किया। इस आक्रमण के दौरान उसने भटिण्डा के शासक आनन्दपाल को पराजित किया और बाद में दाऊद को पराजित कर उसे अधीनता स्वीकार करने के लिए बाध्य कर दिया। पाँचवा आक्रमण 1007 ई. के छठे आक्रमण में नगरकोट के विरुद्ध हमले को मूर्तिवाद के विरुद्ध पहली महत्वपूर्ण जीत बताई जाती है। दसवाँ आक्रमण 1013 ई. पर उसने कन्नौज पर आक्रमण किया जब प्रतिहार शासक राजपाल था। इसके बाद 1019 ई. में किया जब सीमावर्ती क्षेत्र का राजा जयपाल था। जयपाल ने अपनी मुक्ति के लिए बहुत धन दिया, किन्तु अपने इस अपमान को वह सहन नहीं कर सका और आत्मदाह कर लिया। जयपाल हिंदूशाही वंश का राजा था जिसका पश्चिमोत्तर पाकिस्तान तथा पूर्वी अफगानिस्तान पर राज था। 7. Trilochanapaal antim shaahee raajaa jise mahamood ke dvaaraa ajamer ko palaayan karane ke lie majaboor kiyaa gayaa thaa.

Next

मुहम्मद बिन कासिम के बाद सबसे बड़ा आक्रांता था महमूद गज़नवी, 17 बार किया आक्रमण

mohammad ghaznavi history in hindi

One of his commanders named Tilak was a Hindu. The booty of war was used to consolidate the power of the state. Usake bhaarat par aakramaṇa kaa pramukh kaaraṇa bhaarat kee vishaal dhan-sampadaa thee. Ghazni became one of the most important and beautiful cities of the Islamic world. महमूद गजनवी, गजनी का राजा था जिसने 971 से 1030 ईस्वी तक शासन कार्य किया था. The invasions of Mahmud Ghazni in 1000 AD: Mahmud of Ghazni for first time attacked modern Afghanistan and Pakistan in 1000 AD. Usakaa agalaa abhiyaan naagarakoṭ thaa jisakee looṭ ke lie usane 1009 iisvee men hamalaa kiyaa.

Next